Assembly Banner 2021

स्वामी अग्निवेश पर हमले के खिलाफ 21 जुलाई को विपक्ष का प्रतिवाद मार्च

विपक्ष की बैठक

विपक्ष की बैठक

जेवीएम सुप्रीमो और पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने कहा कि स्वामी अग्निवेश पर हमला लोकतंत्र पर हमला है, अभिव्यक्ति की आजादी पर हमला है

  • Share this:
स्वामी अग्निवेश पर हमले और युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज के विरोध में संयुक्त विपक्ष 21 जुलाई को प्रतिवाद मार्च निकालेगा. यह प्रतिवाद मार्च मोरहाबादी मैदान से अलबर्ट एक्का चौक तक जायेगा. गुरुवार को बिहार क्लब में हुई संयुक्त विपक्ष की बैठक में यह फैसला लिया गया.

बैठक में जेवीएम सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी, कांग्रेस के सुबोधकांत सहाय सहित सीपीआई और सीपीएम के नेता शामिल थे. बैठक में मंत्री सीपी सिंह के उस बयान की निंदा की गयी, जिसमें उन्होंने स्वामी अग्निवेश को विदेशी दलाल कहा.

जेवीएम सुप्रीमो और पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने कहा कि स्वामी अग्निवेश पर हमला लोकतंत्र पर हमला है, अभिव्यक्ति की आजादी पर हमला है. उन्होंने कहा कि आश्चर्य तब होता है जब आरोपियों को गिरफ्तार करने के बदले सरकार के मंत्री अनाप-सनाप बयान दे रहे हैं.



पूर्व केन्द्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता सुबोधकांत सहाय ने कहा कि झारखंड के लिए ये काला दिन है कि बाहर से आए हुए व्यक्ति पर जानलेवा हमला हुआ. उन्होंने कहा कि अब सीएम रघुवर दास का सरकारी और संगठनात्मक गुंडागर्दी उभर कर सामने आ चुका है. कांग्रेस नेता ने कहा कि युवा कांग्रेस के नेताओं पर लाठीचार्ज एक तरह से सरकारी हमला था.
बता दें कि पाकुड़ में बीते मंगलवार को स्वामी अग्निवेश पर हमला हुआ. जबकि बुधवार को विधानसभा घेराव के दौरान युवा कांग्रेस के नेताओं पर पुलिस ने लाठी चटकाई थी.

(अजयलाल की रिपोर्ट)

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज