लाइव टीवी

जेयूवीएनएल का कारनामा: लोगों को मुफ्त में मिल रही है बिजली !
Ranchi News in Hindi

Ajay Lal | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: December 6, 2017, 6:10 PM IST
जेयूवीएनएल का कारनामा: लोगों को मुफ्त में मिल रही है बिजली !
फाइल फोटो

झारखंड राज्य उर्जा विकास निगम समाजवाद की राह पर चल पड़ा है. ये सौ आने सच बात है. बिजली बोर्ड यानी उर्जा विकास निगम लोगों के घरों में बिजली जरूर दे रहा है, लेकिन एक साल से ज्यादा बीत जाने के बाद भी लोगों के घरों में बिजली बिल नहीं आ रहा है.

  • Share this:
झारखंड राज्य उर्जा विकास निगम समाजवाद की राह पर चल पड़ा है. ये सौ आने सच बात है. बिजली बोर्ड यानी उर्जा विकास निगम लोगों के घरों में बिजली जरूर दे रहा है, लेकिन एक साल से ज्यादा बीत जाने के बाद भी लोगों के घरों में बिजली बिल नहीं आ रहा है.

 

ये वही समाजवाद है, जिसने बिजली बोर्ड का बेड़ा गर्क कर रखा है. गांवों में, शहरों में बिजली जरूर पहुंचायी जा रही है. लेकिन सिस्टम में ऐसा जंग लगा है कि कई मुहल्लों के लोगों ने पिछले एक-डेढ सालों से बिजली विभाग के किसी राजस्व कर्मचारी का चेहरा तक नहीं देखा. गांव तो गांव, शहर तक में लोगों के घर में नियमित बिजली बिल नहीं पहुंच रहा है. कहीं एक साल से, तो कहीं कनेक्शन लगाने के बाद से ही  बिल नहीं दिया जा रहा है.

सबसे खराब स्थिति हजारीबाग और रांची एरिया बोर्ड का है. यहां सालों साल तक बिजली देने के बाद बिजली बोर्ड का कोई अधिकारी बिल लेने नहीं पहुंचा. रांची सहित कई इलाकों में फ्लूएंट ग्रीड नामक कंपनी बिजली बिल वसूलने का टेंडर ले रखा है. उसके पास अपना सर्वर नहीं है. लिहाजा ना तो वह डाटा का संरक्षण कर पाता है और ना ही उसके पास यह रिकॉर्ड है कि बिजली बोर्ड के उपभोक्ताओं की बिजली बिल की क्या स्थिति है. अकेले रांची में छह लाख 78 हजार नियमित बिजली उपभोक्ता हैं. लेकिन बिल की वसूली पिछले तीन सालों से मात्र चार लाख उपभोक्ताओं से ही हो पा रहा है.



कुल मिलाकर कहें तो स्थिति विकराल है. सबसे ज्यादा चिंता उपभोक्ताओं को ये हो रही है, कि कहीं एक साथ उनके हाथ में दो साल का बिजली बिल ना पकड़ा दिया जाए.

 

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 6, 2017, 6:08 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर