अपना शहर चुनें

States

PM मोदी बोले-झारखंड की बेटियां तीरंदाजी में अव्वल, सविता बोली- देश के लिए ओलंपिक मेडल लाना चाहती हूं

पीएम मोदी ने सविता से उसके लक्ष्य के बारे में पूछा.
पीएम मोदी ने सविता से उसके लक्ष्य के बारे में पूछा.

पीएम मोदी (PM Modi) ने सविता से खेल से लेकर घरवालों तक के बारे में पूछा. सविता ने कहा कि उसका सपना ओलंपिक में खेलने का है. वह झारखंड के साथ-साथ देश का नाम रौशन करना चाहती है.

  • Share this:
रांची. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने झारखंड की तीरंदाज बेटी सविता कुमारी (Savita Kumari) से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये बात की. इस दौरान पीएम ने सविता से खेल से लेकर घरवालों तक के बारे में पूछा. शुरुआत में सविता थोड़ी नर्वस नजर आई. लेकिन उसने पीएम के हर सवाल का जवाब दिया. उसने पीएम को बताया कि उसका सपना ओलंपिक (Olympic) खेलने का है. पीएम ने सविता को भविष्य की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि झारखंड की बेटियां तीरंदाजी में अव्वल हैं.

पीएम से संवाद के बाद सविता के कोच प्रकाश राम ने बताया कि शुरुआत में सविता थोड़ी नर्वस जरूर हुई. लेकिन उसने अपने टारगेट और अपने खेल के बारे में प्रधानमंत्री को जानकारी दी. साथ ही कहा कि उसका सपना ओलंपिक में खेलने का है. वह झारखंड के साथ-साथ देश का नाम रोशन करना चाहती है.





पीएम ने पूछे ये सवाल
पीएम ने पूछा- खेलना कैसा लगता है?
सविता का जवाब- बहुत ही अच्छा, मुझे देश के लिए ओलंपिक में खेलना है.
पीएम ने पूछा- बाहर जाने पर माता-पिता परेशान होते हैं?
सविता ने कहा- नहीं कोच के साथ बाहर खेलने जाती हूं
पीएम ने पूछा- माता-पिता खेल से जुड़े हैं?
सविता ने जवाब दिया- नहीं
प्रधानमंत्री ने सविता को भविष्य के लिए दी शुभकामनाएं और कहा- झारखंड की बेटियां तीरंदाजी में अव्वल हैं.

राष्ट्रीय बाल पुरस्कार मिला

रांची की बेटी सविता को तीरंदाजी में उम्दा प्रदर्शन के लिए राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से नवाजा गया है. सविता ने बताया कि उसके सपने काफी ऊंचे हैं. वह भविष्य में ओलंपिक में गोल्ड मेडल पर निशाना साधेगी.

सविता रांची के सोनाहातू में कस्तूरबा विद्यालय में रहकर पढ़ाई करती थी. इसी दौरान उसे आर्चरी के बारे में बताया गया. जिसके बाद उसने आर्चरी में ही करियर बनाने का फैसला लिया. 2016 में बिरसा मुंडा एकेडमी, सिल्ली के कोच प्रकाश राम और शिशिर महतो की नजर सविता पर पड़ी. उसे कस्तुरबा गांधी स्कूल में स्पोर्ट्स के लिए टैलेंटेड प्लेयर के तौर पर आर्चरी की ट्रेनिंग के लिए सलेक्ट किया गया. दो साल की ट्रेनिंग के बाद सविता नेशनल चैंपियन बनी. 2018 में उसका सेलेक्शन जूनियर इंडियन टीम में हुआ. बांग्लादेश में आयोजित साउथ एशियन आर्चरी चैंपियनशिप में टीम इवेंट में उसने भारत के लिए गोल्ड मेडल जीता. सविता की नजर अब ओलंपिक गोल्ड मेडल पर है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज