लाइव टीवी

पुलिस संस्मरण दिवस: आंतरिक सुरक्षा में जान गंवाने वाले शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि

News18 Jharkhand
Updated: October 21, 2019, 11:28 AM IST
पुलिस संस्मरण दिवस: आंतरिक सुरक्षा में जान गंवाने वाले शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि
राज्य गठन यानी साल 2000 से अबतक सिर्फ रांची में 20 पुलिस अधिकारी और जवान आंतरिक सुरक्षा में अपनी जान गंवाएं हैं.

शहीद (Martyr) के परिजनों का कहना है कि मुआवजे से जाने वाले की क्षतिपूर्ति नहीं हो सकती. इस दर्द को वही समझ सकता है, जिसके साथ बीतता है.

  • Share this:
रांची. पुलिस संस्मरण दिवस (Police Memorial Day) पर आंतरिक सुरक्षा (Internal Security) में जान गंवाने वाले झारखंड के वीर सपूतों (Martyrs) को याद किया गया. रांची पुलिस लाइन में शहीद सपूतों को न केवल श्रद्धांजलि (Tribute) दी गई, बल्कि उनके परिजनों के दुख बांटने की भी कोशिश हुई. 21 अक्टूबर 1959 को लद्दाख के हॉट स्प्रींग में चीनी सेना के आक्रमण में सीआरपीएफ अधिकारी करम सिंह अपने 20 साथियों के साथ शहीद हुए थे. तब से प्रत्येक वर्ष 21 अक्टूबर को पुलिस संस्मरण दिवस मनाया जाता है. इस दौरान पिछले एक साल में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि दी जाती है. 1 सितम्बर 2018 से 31 अगस्त 2019 के दौरान देशभर में 292 वीर सपूत शहीद हुए. इनमें झारखंड के पांच जवान शामिल थे.

पिछले एक साल में झारखंड के इन जवानों ने दी शहादत

एएसआई गोवर्धन पासवान
एएसआई मनोधन हांसदा

सिपाही धनेश्वर महतो
सिपाही डिबरु पूर्ति
सिपाही युधिष्ठिर मालुवा
Loading...

राज्य गठन यानी साल 2000 से अब तक सिर्फ रांची में 20 पुलिस अधिकारी और जवान आंतरिक सुरक्षा में अपनी जान गवाएं हैं. शहीद के परिजनों का कहना है कि मुआवजे से जाने वाले की क्षतिपूर्ति नहीं हो सकती. इस दर्द को वही समझ सकता है, जिसके साथ बीतता है.

श्रद्धांजलि सभा में रांची के एसएसपी अनीस गुप्ता एवं अन्य पुलिस पदाधिकारियों ने शहीद के परिजनों को सम्मानित कर उनकी समस्याएं सुनी. एसएसपी अनीस गुप्ता ने इन्हें समस्याएं दूर करने का आश्वासन दिया.

ये भी पढ़ें- पटना से रांची आ रही बस पतरातू घाटी में हुई दुर्घटनाग्रस्त, 10 यात्री घायल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 21, 2019, 11:26 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...