पुलिस की नजर में तुपुदान में निजी स्कूल के छात्र की मौत संदेहास्पद

हॉस्टल के बच्चे का शव हॉस्टल से दूर संदेहास्पद स्थिति में बरामद होने को लेकर तुपुदाना पुलिस ने अप्राकृतिक मौत का मामला दर्ज कर शव का पोस्टमार्टम कराया है.

Manoj Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: March 14, 2018, 7:22 PM IST
पुलिस की नजर में तुपुदान में निजी स्कूल के छात्र की मौत संदेहास्पद
प्रकाश थाना प्रभारी , तुपुदाना
Manoj Kumar
Manoj Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: March 14, 2018, 7:22 PM IST
रांची के तुपुदाना इलाके में चल रहा एक निजी स्कूल अपने छात्र की संदेहास्पद मौत के बाद पुलिसिया जांच के घेरे में आ गया है. संत थॉमस नामक इस स्कूल के सांतवीं कक्षा के छात्र सचिन एक्का का शव पुलिस ने एक डोभा से संदिग्ध अवस्था में बरामद किया. सचिन स्कूल के हॉस्टल में पिछले तीन सालों से रह कर पढ़ाई कर रहा था.

तुपुदाना थाना क्षेत्र के सुकुरहुट्टू के बांधगाड़ी स्थित संत थॉमस नाम से चल रहे स्कूल में छह सौ से अधिक बच्चे पढ़ाई करते हैं. इस स्कूल हॉस्टल में करीब डेढ़ सौ लड़के और पचास लड़कियां भी रहती हैं. लेकिन बुधवार को यह स्कूल यहां के एक छात्र की संदेहास्पद स्थिति में मौत को लेकर विवादों में आ गया है. पुलिस ने मंगलवार को यहां के सांतवी कक्षा के छात्र सचिन का शव स्कूल से काफी दूर एक डोभा के पास संदिग्ध अवस्था में बरामद किया. हॉस्टल में रह कर पढ़ाई करने वाले इस बच्चे के संदेहास्तद स्थिति में शव मिलने को लेकर कई सवाल खड़े हो रहे हैं. स्कूल प्रबंधन के पास इसका कोई स्पष्ट जवाब नहीं है. वहीं छात्र की मौत के संदर्भ में तुपुदाना के थाना प्रभारी प्रकाश ने कहा कि मौत संदेहास्पद है. पुलिस अनुसंधान कर रही है.

हॉस्टल के बच्चे का शव हॉस्टल से दूर संदेहास्पद स्थिति में बरामद होने को लेकर तुपुदाना पुलिस ने अप्राकृतिक मौत का मामला दर्ज कर शव का पोस्टमार्टम कराया है. लेकिन पुलिस अधिकारियों की माने तो मामले में स्कूल प्रबंधन पूरी तरह संदेह के घेरे में है. उन तमाम बिंदुओं पर पुलिस पड़ताल कर रही है. दूसरी ओर बच्चे की मौत के बाद उसके पैतृक गांव के पास पिठोरिया - पतरातू मार्ग को दो घंटे तक जाम कर विरोध जताया गया और स्कूल प्रबंधन के खिलाफ जांच की मांग की गई.

मालूम हो कि जिले के सुदूरवर्ती क्षेत्र में चल रहा यह स्कूल सुरक्षा के तमाम मापदंडों को ठेंगा दिखा रहा है. ऐसे में स्कूल हॉस्टल में रह कर पढ़ाई कर रहे एक गरीब मजदूर के बेटे की इस तरह से संदेहास्पद तरीके से मौत होती है तो स्कूल की सुरक्षा व्यवस्था के साथ-साथ प्रबंधन की नीयत पर भी सवाल उठना लाजमी है. ऐसे में देखना होगा कि पुलिसिया तफ्तीश में सचिन की मौत की क्या तस्वीर सामने आती है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर