एक माह का अतिरिक्त वेतन नहीं मिलने से पुलिसकर्मी निराश

पुलिस एसोसिएशन ने एक बार फिर मुख्यमंत्री से आग्रह किया है कि पुलिसकर्मियों के एक माह का अतिरिक्त वेतन और सातवें वेतन के बकाये भत्ते का अविलंब भुगतान किया जाए.

Upendra Gupta | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: March 14, 2018, 12:43 PM IST
एक माह का अतिरिक्त वेतन नहीं मिलने से पुलिसकर्मी निराश
अक्षय राम महामंत्री , झारखंड पुलिस एसोसिएशन
Upendra Gupta | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: March 14, 2018, 12:43 PM IST
मुख्यमंत्री रघुवर दास की घोषणा के बाद भी अभी तक राज्य के पुलिसकर्मियों को एक माह का अतिरक्ति वेतन यानि कुल 13 माह का वेतन नहीं मिला है. एक माह का अतिरिक्त वेतन और सातवें वेतन आयोग के बकाए का भुगतान नहीं होने से राज्य के पुलिसकर्मी दुखी हैं. पुलिसकर्मियों की माने तो मुख्यमंत्री ने दो साल पहले एक माह का अतिरिक्त वेतन देने की घोषणा की थी. बाद में विधानसभा में भी मुख्यमंत्री ने पुलिसकर्मियों को एक माह का अतिरिक्त वेतन देने की घोषणा की थी. लेकिन अभी तक मुख्यमंत्री की घोषणा जमीन पर नहीं उतर पाई है.

मुख्यमंत्री की घोषणा के बाद होली में एक माह का अतिरिक्त वेतन की उम्मीद लगाए पुलिसकर्मी अब निराश हो गए हैं. पुलिस एसोसिएशन ने एक बार फिर मुख्यमंत्री से आग्रह किया है कि पुलिसकर्मियों के एक माह का अतिरिक्त वेतन और सातवें वेतन के बकाये भत्ते का अविलंब भुगतान किया जाए.

झारखंड पुलिस एसोसिएशन के महामंत्री अक्षय राम ने कहा कि मुख्यमंत्री ने झारखंड विधानसभा में यह घोषणा की थी कि जनवरी 2018 में झारखंड के पुलिसकर्मियों को एक माह का अतिरिक्त यानि कुल 13 माह का वेतन देंगे. इससे पहले उन्होंने दो वर्ष पूर्व भी इसकी घोषणा की थी. इससे संबंधित फाइल में भी उन्होंने सहमति प्रदान की. बावजूद इसके पुलिसकर्मियों को 13 माह का वेतन नहीं मिला. इसके साथ ही सातवें वेतन आयोग के तहत जो भत्ता मिलनी थी वह भी नहीं दी गई.

उन्होंने कहा कि इन सब कारणों से झारखंड के पुलिसकर्मियों में काफी निराशा का माहौल है. सरकार के प्रति भी असंतोष का भाव उत्पन्न होने लगा है. सरकार घोषणा करती है मगर देने के समय कोई न कोई बहानेबाजी पर उतर आती है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री से मांग करते हैं कि जो घोषणा की जाए उसपर अमल भी किया जाए ताकि लोगों का विश्वास नहीं टूटे. उन्होंने कहा कि इस बार पुलिसकर्मियों की बहुत ही फीकी होली बीती.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->