• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • RANCHI POLITICS ON KAFAN IN JHARKHAND BJP CRITICIZE STATE THEN JMM TARGETS OPPOSITION

कफन पर सियासत: BJP ने हेमंत सरकार पर कसा तंज, तो JMM ने दिया जवाब

झारखंड में सरकार और विपक्ष के बीच छिड़ी ट्विटर वॉर.

कोरोना काल में झारखंड सरकार और विपक्ष के बीच ट्विटर वॉर में कफन मुद्दा बना, दोनों पार्टियों ने तीखे कटाक्ष किए. विपक्ष ने 'चौपट राजा' शब्द इस्तेमाल किया तो सरकार ने 'कफन भी बेचने' जैसा मुहावरा गढ़ा.

  • Share this:
रांची. कोरोना संक्रमण के दौर में झारखंड में कफन मुद्दा बन गया है, जिस पर सियासत हो रही है. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में सोमवार को हुई मंत्रिमंडल की बैठक में नि:शुल्क कफन मुहैया कराने संबंधी फैसला लिया गया. इस पर कटाक्ष करते हुए विपक्षी दल भाजपा ने कहा, 'हुजूर ने न दवा और न दुआओं के काबिल समझा, बेचारी जनता को बस कफन के काबिल समझा.' इसके बाद राज्य की सत्तारूढ़ झामुमो ने गरीबों की मदद के फैसले पर बीजेपी की घटिया राजनीति कहा और उत्तर प्रदेश की बीजेपी सरकार पर तंज़ कसे.

कोविड की दूसरी लहर के प्रकोप के बीच झारखंड सरकार के मुफ्त कफन दिए जाने के फैसले को भाजपा ने अपरिपक्वता की पराकाष्ठा बताते हुए 'अंधेर नगरी चौपट राजा' वाली कहावत चरितार्थ होना करार दिया. लेकिन आरोप प्रत्यारोप और ज़बानी जंग यहीं नहीं रुकी. भाजपा ने कफन का जवाब दवाई से दिया तो जवाब देने में झामुमो भी पीछे नहीं रही.

ये भी पढ़ें : उप्र से उत्तराखंड के पहाड़ों तक फैले ड्रग्स नेटवर्क को तबाह करने की तैयारी

कफन बनाम दवाई की सियासत
बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने सरकार के फैसले को आपत्तिजनक बताते हुए कहा कि सरकार कफन देगी, लेकिन कल से BJP राज्य के लोगों को दवाएं देगी. जब सियासत शुरू हो गई तो जवाब में JMM ने केंद्र की बीजेपी सरकार पर तंज़ करते हुए लिखा 'आपका बस चले तो कफन का कारोबार भी किसी उद्योगपति को बेच दें.'

jharkhand news, corona in jharkhand, jharkhand govt scheme, twitter war, झारखंड न्यूज़, झारखंड सरकार योजना, झारखंड में कोरोना, ट्विटर वॉर
झामुमो और भाजपा के बीच ट्विटर पर चली जंग.


ऐसे बढ़ी भाजपा और झामुमो के बीच जंग
BJP विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने कहा कि झारखंड में कफन मुफ्त बांटने वाला सरकार का वक्तव्य जनमानस के लिए पीड़ादायक और हैरान करने वाला है. 'अगर आपने कफन बांटने के बदले राज्य के बड़े अस्पतालों में कम से कम पांच गरीब, दलित, आदिवासियों का भी मुफ्त इलाज करा दिया होता, तो सौ दो सौ की तो जान बच सकती थी. ये बयान लोगों के जले पर नमक छिड़कने वाला है.'

ये भी पढ़ें : CRPF कैंप के खिलाफ 40 गांवों के आदिवासी सड़कों पर, किस मुद्दे पर है बवाल?

जवाब में झामुमो ने ट्वीट किया कि हेमंत सरकार निशुल्क वैक्सीन भी दे रही है, लेकिन भाजपा की घटिया राजनीति के कारण उसे सिर्फ कफन दिख रहा है. झामुमो ने यूपी में सत्तारूढ़ भाजपा सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कहा 'वैसे ‘उत्तम’ प्रदेश में मां गंगा में तैरते, रेत में दबे और कुत्तों-गिद्धों द्वारा नोचे जा रहे गरीबों के शवों का नजारा ही आपको शायद पसंद है.'