Home /News /jharkhand /

दिवाली की आतिशबाजी में नहीं बिगड़ी रांची की आबो-हवा, पिछले साल के मुकाबले इस बार आधा रहा पॉल्युशन

दिवाली की आतिशबाजी में नहीं बिगड़ी रांची की आबो-हवा, पिछले साल के मुकाबले इस बार आधा रहा पॉल्युशन

दिवाली की आतिशबाजी में इस बार रांची की आबो-हवा को कम नुकसान पहुंचा है.

दिवाली की आतिशबाजी में इस बार रांची की आबो-हवा को कम नुकसान पहुंचा है.

Ranchi News: रांची में इस बार दिवाली पर ग्रीन पटाखों का बोलबाला रहा. इससे सबसे बड़ी राहत की बात ये रही कि शहर में एयर और साउंड पॉल्युशन कम हुआ. पिछले साल के मुकाबले लगभग आधा रहा. दरअसल शहर में दिवाली से पहले और दिवाली के दिन प्रदूषण की हर घंटे जांच की गई. जांच में इस बात का खुलासा हुआ.

अधिक पढ़ें ...

रांची. राजधानी रांची में इस बार दिवाली पर ग्रीन पटाखों का बोलबाला रहा. इससे सबसे बड़ी राहत की बात ये रही कि शहर में एयर और साउंड पॉल्युशन कम हुआ. पिछले साल के मुकाबले लगभग आधा रहा. दरअसल शहर में दिवाली से पहले और दिवाली के दिन प्रदूषण की हर घंटे जांच की गई. जांच में इस बात का खुलासा हुआ.

अक्तूबर में रांची के डोरंडा स्थित वन भवन के पास वायु प्रदूषण पीएम 10 (सूक्ष्म धूलकण) का स्तर अधिकतम 111 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर रहा, जबकि न्यूनतम 60 रिपोर्ट हुआ. दिवाली के दिन यहां पीएम 10 सामान्य 100 से दो गुना 202 माइक्रोग्राम रहा, वहीं पीएम 2.5 सामान्य 60 से 70 प्रतिशत अधिक रिकॉर्ड किया गया.

राजधानी रांची में चार जगहों पर वायु प्रदूषण की जांच की गई. चार लोकेशन को तीन केटेगरी में बांटा गया. हाई कोर्ट डोरंडा एरिया को साइलेंस जोन, अशोक नगर रेसिडेंशियल एरिया, जबकि अलबर्ट एक्का चौक और कचहरी चौक एरिया को कमर्शियल जोन में बांटा गया. इसमें कचहरी चौक एरिया में सबसे अधिक ध्वनि का स्तर रहा. रात 7 से 8 के बीच ही इस इलाके में ध्वनि का स्तर 86.6 डेसिबल रहा, जो अन्य क्षेत्रों और दूसरी अवधि में भी सबसे उच्च स्तर पर रहा. बता दें कि दिवाली पर वायु की गुणवत्ता कितनी प्रभावित हुई, इसके बारे में जानने के लिए 29 अक्टूबर को ही इन चार जगहों पर उपकरण लगाए गए थे.

झारखंड राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद के अनुसार एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) अगर 0 से 50 के बीच होता है, तो यह बहुत अच्छी हवा मानी जाती है. अगर एक्यूआई 50 से 100 के बीच होती है तो यह मध्यम वर्ग का माना जाता है. यह भी हानिकारक नहीं माना जाता. पर 100 से अधिक होने पर यह मानव शरीर के लिए नुकसानदायक होता है. 200 से अधिक एक्यूआई काफी गंभीर श्रेणी में आता है, जो मानव शरीर को काफी नुकसान पहुंचाता है.

Tags: Air quality index, Jharkhand news, Ranchi news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर