रांची: प्राइवेट अस्पताल ने 18 घंटे में थमा दिया 1 लाख 28 हजार का बिल, सीएम हेमंत ने लिया संज्ञान, कार्रवाई का आदेश

सांस लेने में तकलीफ के बाद मरीज को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. (फाइल फोटो)

सांस लेने में तकलीफ के बाद मरीज को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. (फाइल फोटो)

Ranchi News: इस मामले में सीएम हेमंत सोरेन ने संज्ञान लेते हुए ट्वीट कर रांची डीसी को उचित कार्रवाई करने का आदेश दिया है.

  • Share this:
इनपुट- ओमप्रकाश

रांची. झारखंड की राजधानी रांची के रातू इलाके में स्थित वरदान हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर में मरीज के परिजन को 1 लाख 28 हजार का बिल थमा दिया गया. दरअसल 25 अप्रैल की शाम को सांस लेने में तकलीफ के बाद मरीज को इस हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया. 27 की सुबह अस्पताल ने परिजनों को 1 लाख 28 हजार रुपया का बिल थमा दिया.

परिजन का आरोप है कि आधे से ज्यादा पैसे जमा कराने के बाद भी मरीज को डिस्चार्ज नही किया जा रहा है. अस्पताल फूल बिल जमा कराने के लिए दवाब बना रहा है.

इस मामले में सीएम हेमंत सोरेन ने संज्ञान लेते हुए ट्वीट कर रांची डीसी को उचित कार्रवाई करने का आदेश दिया.


मेदांता हॉस्पिटल में स्वास्थ्य कर्मियों का हंगामा

उधर, रांची के मेदांता हॉस्पिटल में स्वास्थ्य कर्मियों ने मंगलवार सुबह से ही कार्य बहिष्कार कर दिया है. एक कर्मचारी के परिजन की मौत के बाद अस्पताल के विभिन्न विभागों के कर्मचारी अस्पताल परिसर में हंगामा कर रहे हैं. उनका आरोप है कि वे जिस अस्पताल में काम करते हैं जरूरत पड़ने पर वहीं उनके कर्मचारी को बेड नहीं मिलता है. इसी कारण सोमवार देर रात एक कर्मचारी के परिजन की मौत हो गई. कई की स्थिति गंभीर बनी हुई है.





वहीं अस्पताल प्रबंधन का कहना है कि चंद लोग पैसा लेकर बेड बेचने की साजिश रच रहे थे. जब उन्हें रोका गया तो वे झूठा बहाना बना कर हंगामा करने लगे.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज