Assembly Banner 2021

झारखंड: आयुष्मान भारत योजना का नाम बदलने पर विधानसभा में तीखी बहस, इन सवालों से घिरी सरकार

झारखंड विधानसभा में भाजपा ने किया हंगामा, अयुष्मान भारत का नाम बदलने पर विरोध.

झारखंड विधानसभा में भाजपा ने किया हंगामा, अयुष्मान भारत का नाम बदलने पर विरोध.

बजट सत्र के दौरान पक्ष और विपक्ष के बीच विभिन्न मुद्दों को लेकर जुबानी तकरार होती रही. दोनों ओर से सवालों की बारिश ने बजट सत्र के मिजाज को गर्म बनाए रखा. आयुष्मान भारत योजना का नाम बदले जाने पर भी तीखी बहस हुई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 5, 2021, 11:54 PM IST
  • Share this:
रांची. झारखंड विधानसभा बजट सत्र के छठवें दिन भी सत्र में भाजपा विधायकों ने जमकर हंगामा किया.  बजट सत्र के दौरान पक्ष और विपक्ष के बीच विभिन्न मुद्दों को लेकर जुबानी तकरार होती रही. दोनों ओर से सवालों की बारिश ने बजट सत्र के मिजाज को गर्म बनाए रखा. आयुष्मान भारत योजना का नाम बदले जाने पर भी तीखी बहस हुई. तो वहीं अवैध खनन और तस्करी पर विपक्ष के कार्यस्थगन प्रस्ताव को स्पीकर ने अस्वीकार कर दिया.

भाजपा विधायक रामचंद्र चंद्रवंशी ने आयुष्मान भारत (प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना) के नाम बदले जाने पर सवाल उठाया. उन्होंने कहा कि यह गलत परंपरा की शुरुआत हुई है. वहीं पूर्व मंत्री ने यह भी कहा कि योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए पैसे कहां से आएंगे, बजट में इसका जिक्र नहीं है. वहीं, विपक्ष ने बजट पर सामान्य चर्चा के बाद सरकार के जवाब का बहिष्कार किया. आजसू के सुदेश महतो ने 10 आदिवासियों को विदेश में उच्च शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति योजना शुरू करने पर कहा कि सरकार को पहले राज्य के बच्चों की प्राथमिक शिक्षा दुरुस्त करने की जरूरत थी. सरकार पुरानी योजनाओं को नई बता रही है. पिछले वर्ष जो योजनाएं शुरू नहीं हो सकी थीं, उन्हें इस साल नया बताया जा रहा है.

बजट सत्र के दौरान विधायक सरयू राय ने बजट पर चर्चा के दौरान राज्य सरकार द्वारा उधार ली जानेवाली राशि पर सवाल उठाते हुए कहा कि किसी भी सरकार के लिए ज्यादा उधार लेना ठीक नहीं है. उन्होंने कहा कि पिछले साल के बजट में 12.75 फीसद राशि उधार लेने की बात कही गई थी. इस बजट में यह राशि 16 फीसद हो गई है. उन्होंने गैर कर राजस्व बढ़ाने का सुझाव देते हुए कहा कि यह राजस्व दोगुना हो सकता है. उन्होंने विभागों द्वारा बजट की राशि खर्च नहीं होने पर भी सवाल उठाया. इसके साथ ही सत्र में नक्सली हमले पर सरयू राय ने खुफिया एजेंसी पर सवाल खड़े किए. उन्होंने कहा कि स्पेशल ब्रांच को समय पर सूचनाएं क्यों नहीं मिल रही हैं. लगातार घटनाएं हो रही हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज