Assembly Banner 2021

रघुवंश प्रसाद के निधन का लालू की सेहत पर बड़ा असर, ब्लड शुगर लेवल बिगड़ा

रघुवंश बाबू के निधन के बाद से लालू प्रसाद काफी दुखी हैं. (फाइल फोटो)

रघुवंश बाबू के निधन के बाद से लालू प्रसाद काफी दुखी हैं. (फाइल फोटो)

Raghuvansh Prasad Singh Death: डॉ. उमेश प्रसाद ने लालू किडनी के भी मरीज हैं. उन्हें भोजन के साथ-साथ सारी दूसरी सावधानियां भी बरतने की सलाह दी गई है.

  • Share this:
रांची. पूर्व केन्द्रीय मंत्री डॉ. रघुवंश प्रसाद सिंह (Raghuvansh Prasad Singh) के निधन के बाद से आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव (Lalu Yadav) काफी दुखी हैं. बताया जा रहा है कि वे रिम्स के केली बंगले में लोगों से ज्यादा बातचीत नहीं कर रहे हैं. लालू प्रसाद का इलाज करने वाले डॉक्टर उमेश प्रसाद ने जानकारी देते हुए कहा कि लालू प्रसाद रघुवंश प्रसाद के साथ काफी करीब से जुड़े हुए थे. रघुवंश बाबू कई बार लालू प्रसाद से मिलने के लिए रिम्स के पेइंग गेस्ट वार्ड भी आए थे.

अपने राजनीतिक जीवन के साथी के गुजर जाने का असर लालू के स्वास्थ्य पर भी देखा जा रहा है. डॉ उमेश प्रसाद ने बताया कि लालू प्रसाद का ब्लड प्रेशर तो ठीक है लेकिन ब्लड शुगर लेवल में उतार चढ़ाव जारी है. ऐसे में करीब 10 तरह की दवाएं लालू प्रसाद को दी जा रही हैं. डॉक्टर ने यह भी बताया कि लालू किडनी के भी मरीज हैं. लिहाजा उन्हें भोजन के साथ-साथ दूसरी सावधानियां भी बरतने की सलाह दी गई है. आपको बता दें कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को पेइंग गेस्ट वार्ड से हटाकर रिम्स के केली बंगले को ही स्पेशल वार्ड बनाकर उसमें शिफ्ट कर दिया गया था.

गुमसुम हुए लालू



मालूम हो कि डॉ. रघुवंश प्रसाद सिंह के निधन की खबर सुनकर लालू यादव एक पल के लिए स्तब्ध हो गए थे. रांची में रिम्स के केली भवन में इलाजरत लालू प्रसाद शोक में डूबे गए थे. निधन की खबर के बाद से ही वो तकिसी से बात नहीं कर रहे थे. चुपचाप बैठे हुए थे. कुछ दिन पहले ही उन्होंने रघुवंश बाबू के पार्टी से इस्तीफे को नामंजूर करते हुए चिट्ठी लिखकर कहीं नहीं जाने का आग्रह किया था.
ये भी पढ़ें: CM उद्धव ठाकरे को धमकी देने वाला शातिर ठग बिहार से गिरफ्तार, नामी हस्तियों को बनाता था शिकार 

झारखंड राजद के महासचिव और लालू के सेवक इरफान अहमद अंसारी ने बताया था कि रघुवंश बाबू के निधन की खबर सुनने के बाद लालू यादव बेहद शोकाकुल नजर आए. उन्होंने उस क्षण को याद किया, जब तीन दिन पहले उन्होंने रघुवंश बाबू को चिट्ठी लिखकर उनके इस्तीफे को नामंजूर कर दिया था. और कहा था कि आप कहीं नहीं जा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज