लघु उद्योग को रघुवर दास का तोहफा: फ्लिपकार्ट अब देगा झारखंड के हुनरमंदों को बाजार

उद्योग सचिव और फ्लिपकार्ट के अधिकारी के बीच मुख्यमंत्री के समक्ष एमओयू हुआ. इस मौके पर खादी और झारक्राफ्ट के ऑनलाइन स्टोर का भी शुभारंभ किया गया.

0m Prakash | News18 Jharkhand
Updated: September 8, 2019, 7:10 PM IST
लघु उद्योग को रघुवर दास का तोहफा: फ्लिपकार्ट अब देगा झारखंड के हुनरमंदों को बाजार
रांची - कार्यक्रम में हस्त शिल्प से बनी गुड़िया का प्रदर्शन करते हुए स्थानीय कारीगर
0m Prakash | News18 Jharkhand
Updated: September 8, 2019, 7:10 PM IST
रांची. मुख्यमंत्री रघुवर दास (Raghuva Das) ने डिजिटल इंडिया (Digital India) को बढ़ावा देने को लेकर रविवार को एक ऐतिहासिक कदम उठाते हुए लघु उद्योग (Small Industry) को डिजिटल बाजार मुहैया कराया. झारखंड सरकार (Jharkhand Government) की समर्थ योजना के तहत प्रदेश के कारीगरों, बुनकरों, शिल्पकारों और उत्पादकों को डिजिटल बाज़ार मुहैया कराने को लेकर फ्लिपकार्ट (Flipkart)  से एमओयू (MoU) किया गया. इस एमओयू के बाद अब फ्लिपकार्ट झारखंड के उत्पादों को डिजिटल माध्यम से देश विदेश तक बाज़ार  (Market) मुहैया कराएगा. सरकार के इस फैसले और एमओयू से झारखंड के छोटे और कुटीर उद्योग (Cottage Industries) को अपने पंख पसारने का मौका मिलेगा. इसके जरिए अब उन्हें उनके उत्पादों की अच्छी कीमत मिलेगी.

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री और फ्लिपकार्ट के अधिकारियों के अलावा बुनकर, शिल्पकार, कारीगर सहित उत्पादक शामिल हुए. कार्यक्रम में उद्योग सचिव और फ्लिपकार्ट के अधिकारी के बीच मुख्यमंत्री के समक्ष एमओयू हुआ. वहीं खादी और झारक्राफ्ट (Jharcraft) के ऑनलाइन स्टोर का भी शुभारंभ किया गया. डॉक्यूमेंट्री के माध्यम से इन उद्योगों से भी लोगों को अवगत कराया गया. उद्योग सचिव ने कार्यक्रम में बताया कि इससे झारखंड की संस्कृति का प्रचार प्रसार होगा. इस उद्योग के बढ़ने से प्लास्टिक बैन (Plastic Ban)  को लेकर चल रहे प्रयास को बल मिलेगा. फ्लिपकार्ट के अधिकारी राजीव कुमार ने बताया कि ऑनलाइन बाज़ार के जरिए लोगों का जीवनस्तर सुधरेगा.

झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास के साथ फ्लिपकार्ट के अधिकारी


झारखंड के उत्पादों को मिलेगी अंतर्राष्ट्रीय पहचान


मुख्यमंत्री ने इस मौके पर कहा कि 1991 के बाद से ही पूरी दुनिया में ई-मार्केट (E-Market) का स्कोप बढ़ा है. उन्होंने कहा कि झारखंड के उत्पादों को भी अंतराष्ट्रीय बाजार (International Market) में पहचान दिलाने और ग्रामीण बेरोजगारी (Unemployment) को दूर करने के लिए लघु एवं कुटीर उद्योग विभाग बनाया गया था. बाज़ार उपलब्ध कराने को लेकर सरकार की तरफ से ये पहल की गई है. इस एमओयू के बाद फ्लिपकार्ट झारखंड की संस्कृति को अन्तराष्ट्रीय पहचान दिलाएगा. मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश के अबतक 95 हज़ार शिल्पकार को भी सूचीबद्ध किया गया है. सरकार कुटीर उद्योग को नई नई चीज ईजाद करने को लेकर प्रोत्साहित करेगी. साथ ही बांस उद्योग को और भी ज्यादा प्रोत्साहित करने का निर्देश दिया.

फ्लिपकार्ट झारखंड के कारीगरों को दिलाएगा अन्तराष्ट्रीय पहचान

Loading...

अब हुनर को मिलेगा डिजिटल बाजार

कार्यक्रम में शामिल हुए कारीगरों ने बताया कि ट्रेनिंग के बाद वे कुशल तो हो गए थे, लेकिन बाजार की उपलब्धता नहीं होने की वजह से उन्हें उनके उत्पादों की उचित कीमत नहीं मिल पाती थी. अब सरकार के इस प्रयास से उनकी ये समस्या भी दूर हो जाएगी. सरकार के इस फैसले से हुनरमंद संगीता और प्रिया ने अपनी खुशी जताई और मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया.

ये भी देखें - क्या झारखंड में जेडीयू बिगाड़ सकती है बीजेपी का गेम?

ये भी देखें - लोगों पर डाका डालकर खजाना भर रही है बीजेपी- बाबूलाल मरांडी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 8, 2019, 7:10 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...