झारखंड में बारिश ने बढ़ाई ठंड, लोग परेशान, फसलों को नुकसान, किरीबुरू में जमा बर्फ

चाईबासा के किरीबुरू में ठंड के कारण चारों तरफ बर्फ की चादर फैल गई

मौसम विभाग के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में बने निम्न दबाव के क्षेत्र के कारण झारखंड में बारिश जारी है. अगले दो दिन तक बारिश होती रहेगी. रविवार के बाद मौसम में बदलाव होगा और आसमान साफ होगा. हालांकि तापमान तेजी से गिरेगा.

  • Share this:
रांची. झारखंड में रूक-रूक कर हो रही बारिश (Rain) के चलते ठंड (Cold) काफी बढ़ गई है. इससे पूरे प्रदेश में जनजीवन प्रभावित हुआ है. ठंड के कारण कई लोगों के मौत होने की भी खबर है. जमशेदपुर में गुरुवार रात एक महिला समेत दो लोगों की मौत हो गई. दोनों टाटा नगर स्टेशन के बाहर मृत पाये गये. चतरा के लवालौंग थाना इलाके के हरहद जंगल में ठनका की चपेट में आने से दो युवकों की मौत हो गई. दोनों मवेशी चराने जंगल गये थे. कोहरे के कारण ट्रेन (Train) की रफ्तार पर भी ब्रेक लग गया है. ट्रेनें लेट से चल रही हैं. इससे यात्रियों को परेशानी हो रही है.

मौसम विभाग के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में बने निम्न दबाव के क्षेत्र के कारण झारखंड में बारिश जारी है. अगले दो दिन तक बारिश होती रहेगी. रविवार के बाद मौसम में बदलाव होगा और आसमान साफ होगा. हालांकि तापमान तेजी से गिरेगा. इसके चलते ठंड और बढ़ेगी और रात में कुहासा और घना होगा.

कोल्हान में लगातार हो रही बारिश के चलते तापमान में भारी गिरावट आयी है. सारंडा के किरीबुरू में तापमान शून्य से नीचे चला गया है. जिसके कारण किरीबुरू में चारों तरफ बर्फ की चादर बिछ गयी है. ऐसा पहली बार हुआ है कि किरीबुरू का नजारा कश्मीर की तरह दिख रहा है. ठंड और कुहासे के कारण लोगों का हाल बेहाल है. लेक गार्डन के तालाब का पानी जम गया है.

झारखंड का शिमला कहे जाने वाले हजारीबाग भी इनदिनों सर्दी की चपेट में है. लगातार गिर रहे पारा से लोग परेशान हैं. पिछले दो दिनों से हो रही बारिश से लोगों की परेशानी दोगुनी हो गई है. वहीं बारिश के कारण आलू और टमाटर की फसल को नुकसान हो रहा है. चतरा में भी बारिश और कोहरे के कारण टमाटर की फसल बर्बाद हो रही है. जिले के सिमरिया, हंटरगंज, गिद्धौर, पत्थलगड़ा, इटखोरी इत्यादि क्षेत्रों में टमाटर ही किसानों के लिए मुख्य फसल है. प्रत्येक वर्ष यहां के टमाटर बिहार, बंगाल, और ओडिशा भेजे जाते हैं. लेकिन इस बार किसान शायद ऐसा नहीं कर पाएंगे.

उपराजधानी दुमका में ठंड को देखते हुए तमाम विद्यालयों को 4 जनवरी तक बंद रखने का आदेश दिया गया है. डीसी से लेकर अन्य पदाधिकारी रात में सड़कों पर घूम-घूम कर कंबल का वितरण कर रहे हैं. चौक चौराहों पर प्रतिदिन अलाव जलाया जा रहा है. डीडीसी शेखर जमुआर ने कहा कि अबतक 50 हजार कंबलों का वितरण हो चुका है.

गोड्डा में न्यूनतम पारा 5 से 6 डिग्री रह रहा है. शीतलहर के चलते लोग शाम ढलते ही घरों में दुबकने को मजबूर हो रहे हैं. ठंड से बचने के लिए जिला प्रशासन के द्वारा चौक-चौराहों पर अलाव की व्यवस्था की गई है. लेकिन लोगों का कहना है कि पहले कोयला दिया जाता था, जो आधी रात के बाद भी जलता रहता था. मगर इस बार लकड़ियां दी जा रही हैं. जो जल्द जल जा रही हैं. प्रशासन के द्वारा कंबल का भी वितरण किया गया है.

सरायकेला जिले में भी बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त है. ठंड में काफी बढ़ोत्तरी हुई है. प्रशासन की ओर से जगह-जगह अलाव की व्यवस्था की गयी है. जिससे गरीबों को थोड़ी राहत मिल रही है. राजधानी रांची और धनबाद में भी बारिश और सर्दी के चलते लोग परेशान हैं.

ये भी पढ़ें- झारखंड में नक्सलियों का तांडव, पुल निर्माण में लगे वाहनों और मशीनों को किया आग के हवाले

 

 

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.