Home /News /jharkhand /

बच्‍चों के लिए अभिशाप बनता जा रहा मोबाइल फोन का इस्‍तेमाल, RIMS की रिपोर्ट में चौंकाने वाले खुलासे

बच्‍चों के लिए अभिशाप बनता जा रहा मोबाइल फोन का इस्‍तेमाल, RIMS की रिपोर्ट में चौंकाने वाले खुलासे

Medical Report on Mobile Phone Use: रांची रिम्‍स की रिपोर्ट में मोबाइल फोन के इस्‍तेमाल से बच्‍चों के स्‍वास्‍थ्‍य पर बुरा असर पड़ने की बात सामने आई है. (सांकेतिक तस्‍वीर)

Medical Report on Mobile Phone Use: रांची रिम्‍स की रिपोर्ट में मोबाइल फोन के इस्‍तेमाल से बच्‍चों के स्‍वास्‍थ्‍य पर बुरा असर पड़ने की बात सामने आई है. (सांकेतिक तस्‍वीर)

RIMS Clinical Report: रिम्‍स की क्‍लीनिकल रिपोर्ट में मोबाइल फोन के इस्‍तेमाल से बच्‍चों के स्‍वास्‍थ्‍य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने की बात सामने आई है. डॉक्‍टरों का कहना है कि बच्‍चे लंबे समय तक मोबाइल फोन का इस्‍तेमाल करने के लती होते जा रहे हैं. इससे उनके स्‍वास्‍थ्‍य पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है.

अधिक पढ़ें ...

    रांची. आजकल बच्‍चों द्वारा मोबाइल फोन का इस्‍तेमाल बेहद आम है. कोरोना काल में डिजिटल क्‍लास के लिए बच्‍चों की मोबाइल फोन पर निर्भरता काफी ज्‍यादा बढ़ गई है. इन सबके बीच राजेंद्र आयुर्विज्ञान संस्‍थान (Rajendra Institute of Medical Sciences-RIMS) की क्‍लीनिकल रिपोर्ट में चौंकाने वाली बात सामने आई है. रिम्‍स की रिपोर्ट में मोबाइल फोन का प्रयोग करने वाले बच्‍चों के विभिन्‍न तरह की बीमारियों से ग्रस्‍त होने की बात सामने आई है. खासकर मोबाइल फोन का लंबे समय तक इस्‍तेमाल करने वाले बच्‍चों पर इसका बेहद बुरा प्रभाव पड़ने का खुलासा हुआ है.

    RIMS की रिपोर्ट में पाया गया है कि OPD में इलाज के लिए आने वाले 75 फीसद बच्‍चे मोबाइल फोन से होने वाली समस्‍या से ग्रसित हैं. ऐसे बच्‍चों में सबसे ज्‍यादा कब्‍ज की समस्‍या पाई गई है. क्‍लीनिकल रिपोर्ट में 5 से 14 साल के बच्‍चों को शामिल किया गया है. शिशु रोग विशेषज्ञों का कहना है कि मोबाइल फोन का अत्‍यधिक इस्‍तेमाल करने वाले बच्‍चों में आंख की समस्‍या भी पाई गई है. ऐसे में इन बच्‍चों को दवा के साथ मोबाइल फोन से दूरी बनाने की भी सलाह दी जा रही है. बता दें कि पिछले कुछ वर्षों में बच्‍चों में मोबाइल फोन का प्रचलन काफी बढ़ा है.

    RIIMS Report

    रिम्‍स की क्‍लीनिकल रिपोर्ट में मोबाइल फोन इस्‍तेमाल करने वाले बच्‍चों के कई बीमारियों से ग्रसित होने की बात सामने आई है. (फाइल फोटो)

    बच्‍चों में चौंकाने वाली समस्‍या
    शिशु रोग विभाग के सर्जरी डिपार्टमेंट के विभागाध्‍यक्ष डॉक्‍टर हीरेन बिरुआ ने बताया कि इन बच्‍चों में चौंकाने वाली समस्‍या पाई गई है जो अभी तक बच्‍चों में नहीं देखी गई थी. ‘दैनिक जागरण’ की रिपोर्ट के अनुसार, डॉक्‍टर ने बताया कि अभिभावक इतने व्‍यस्‍त रहते हैं कि वे बच्‍चों को वीडियो गेम खेलने या फिर वीडियो देखने के लिए मोबाइल फोन दे देते हैं. इससे बच्‍चों को मोबाइल की लत लग रही है. इससे बच्‍चों को नई-नई समस्‍याओं से दो-चार होना पड़ रहा है.

    मोबाइल फोन में मशगूल हो जाते हैं बच्‍चे
    विशेषज्ञों ने पाया कि बच्‍चे मोबाइल फोन में इस कदर मशगूल हो जाते हैं कि उन्‍हें किसी बात का होश ही नहीं रहता है. वे समय पर बाथरूम जाना तक भूल जाते हैं. ऐसे में उनके स्‍वास्‍थ्‍य पर इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है. डॉक्‍टर बताते हैं कि सुबह होते ही बच्‍चे वीडियो गेम खेलने में मगन हो जाते हैं. बच्‍चों के स्‍वास्‍थ्‍य पर इसका दुष्‍प्रभाव पड़ रहा है.

    Tags: Health News, RIMS

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर