कोरोना काल में झारखंड सरकार डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों को देगी 6 महीने सेवा विस्तार 

कोरोना काल में झारखंड में डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों की कमी को देखते हुए हेमंत सोरेन सरकार द्वारा इनकी सेवा अवधि छह माह बढ़ाने का निर्णय लिया है (फाइल फोटो)

कोरोना काल में झारखंड में डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों की कमी को देखते हुए हेमंत सोरेन सरकार द्वारा इनकी सेवा अवधि छह माह बढ़ाने का निर्णय लिया है (फाइल फोटो)

जो चिकित्सक मार्च 2022 तक सेवानिवृत (रिटायर) होने वाले हैं, उनकी सेवा अवधि विस्तार मार्च 2022 या रिटायरमेंट की तारीख से छह माह की अवधि, जो भी बाद में हो तक करने संबंधी स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग के प्रस्ताव को स्वीकृति दे दी गई है. इसे अब मंजूरी के लिए मंत्रिपरिषद की बैठक (Cabinet Meeting) में रखा जाएगा

  • Share this:

रांची. कोरोना संक्रमण की रफ्तार धीमी पड़ने के बाद झारखंड सरकार (Jharkhand Government) ने स्वास्थ्य विभाग से जुड़े कर्मियों की सेवा अवधि में विस्तार (Work Extension) देने का निर्णय लिया है. जो चिकित्सक मार्च 2022 तक सेवानिवृत (रिटायर) होने वाले हैं, उनकी सेवा अवधि विस्तार मार्च 2022 या रिटायरमेंट की तारीख से छह माह की अवधि, जो भी बाद में हो तक करने संबंधी स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग के प्रस्ताव को स्वीकृति दे दी गई है. इसे अब मंजूरी के लिए मंत्रिपरिषद की बैठक (Cabinet Meeting) में रखा जाएगा.

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन द्वारा स्वीकृत इस प्रस्ताव के अंतर्गत झारखंड स्वास्थ्य सेवा के शैक्षणिक और गैर-शैक्षणिक संवर्ग में मई 2021 से सितंबर 2021 तक सेवानिवृत होने वाले चिकित्सकों की एक बार के लिए आगामी मार्च 2022 और अक्टूबर 2021 से मार्च 2022 तक सेवानिवृत होने वाले चिकित्सकों की सेवानिवृति, सेवानिवृत की तिथि से छह माह की अवधि तक किया जाएगा.

कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए झारखंड सरकार ने उठाया कदम

दरअसल कोविड 19 महामारी से उत्पन्न परिस्थितियों से निपटने और समुचित चिकित्सा व्यवस्था झारखंड के निवासियों को उपलब्ध कराना सरकार की प्राथमिकता है. प्रदेश में चिकित्सकों की कमी है, गैर शैक्षणिक संवर्ग में स्वीकृत बल 2,316 की तुलना में 1,597 और शैक्षणिक संवर्ग मं स्वीकृत बल 591 के विरुद्ध 285 चिकित्सक कार्यरत हैं.
अगले एक वर्ष में गैर शैक्षणिक संवर्ग के 44 और शैक्षणिक संवर्ग के 15 चिकित्सक रिटायर हो जाएंगे. ऐसे में कोरोना से प्रभावी ढंग से निपटने हेतु राज्य सरकार ने पदस्थापित (तैनात) वैसे चिकित्सक जो मई 2021 से मार्च 2022 के बीच सेवानिवृत हो रहे हैं की सेवा लोक और राज्य हित में विस्तारित करने का निर्णय लिया गया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज