कुरान बांटने का आदेश: वकीलों ने किया कोर्ट का बहिष्कार, फैसले को संविधान के खिलाफ बताया

रांची जिला बार काउंसिल के जनरल सेक्रेटरी कुंदन प्रकाश का कहना है कि कोर्ट का यह आदेश संवैधानिक ढांचे में उचित नहीं है. कोर्ट शर्त लगाने के लिए स्वतंत्र है, लेकिन इस तरह की शर्त गलत है. इससे धार्मिक भावना भड़की है.

News18 Jharkhand
Updated: July 17, 2019, 5:04 PM IST
कुरान बांटने का आदेश: वकीलों ने किया कोर्ट का बहिष्कार, फैसले को संविधान के खिलाफ बताया
रांची जिला बार काउंसिल के जेनरल सेक्रेटरी कुंदन प्रकाश का कहना है कि कोर्ट का यह आदेश संवैधानिक ढांचे में उचित नहीं है. कोर्ट शर्त लगाने के लिए स्वतंत्र है, लेकिन इस तरह की शर्त गलत है. इससे धार्मिक भावना भड़की है.
News18 Jharkhand
Updated: July 17, 2019, 5:04 PM IST
ऋचा पटेल के मामले को लेकर रांची कोर्ट के वकीलों में नाराजगी देखी गई. वकीलों ने बुधवार को न्यायिक दंडाधिकारी मनीष कुमार सिंह की कोर्ट का बहिष्कार किया. उन्होंने कोर्ट के आदेश पर सवाल उठाते हुए कहा कि देश में ऐसा पहली बार हुआ है कि इस तरह की शर्त कोर्ट द्वारा लगाई गई है. इससे धार्मिक भावना भड़की है.

आदेश का नहीं, शर्त का विरोध

रांची जिला बार काउंसिल के जनरल सेक्रेटरी कुंदन प्रकाश का कहना है कि कोर्ट का यह आदेश संवैधानिक ढांचे में उचित नहीं है. कोर्ट शर्त लगाने के लिए स्वतंत्र है लेकिन इस तरह की शर्त गलत है. इससे धार्मिक भावना भड़की है.

कुंदन प्रकाश ने कहा कि ये मामला अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चला गया है. ऐसा कोई काम नहीं करना चाहिए, जिससे किसी को कोई आहत पहुंचे. मामला अंतराष्ट्रीय स्तर पर चला जाए. इस तरह के मामले से न्यायपालिका की गरिमा गिरती है. हमलोग इसे बचाने की लड़ाई लड़ रहे हैं. हमलोग आदेश का नहीं, शर्त का विरोध कर रहे हैं.

ऋचा पटेल


पुलिस की कार्रवाई पर सवाल 

अधिवक्ता संजय कुमार ने पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाते हुए कहा कि पोस्ट शेयर करने पर इतनी जल्द कार्रवाई क्यों की गई? जांच होती, छात्रा को पक्ष रखने का मौका दिया जाता. बिना पक्ष सुने एक छात्रा को जेल भेज दिया गया. ये न्यायसंगत नहीं है.
Loading...

ये है पूरा मामला 

बता दें कि रांची के पिठोरिया की छात्रा ऋचा पटेल ने सोशल साइट पर धार्मिक पोस्ट किया था. इसके बाद अंजुमन इस्लामिया (पिठोरिया) के प्रमुख मंसूर खलीफा ने रांची के पिठोरिया थाने में 12 जुलाई को प्राथमिकी दर्ज कराई थी. इसमें उन्होंने ऋचा पर मुस्लिम समुदाय की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया. इसके बाद पिठोरिया पुलिस ने शुक्रवार की शाम को ऋचा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था.

इस मामले में सोमवार को न्यायिक दंडाधिकारी मनीष कुमार सिंह की अदालत ने कुरान की पांच प्रतियां बांटने की शर्त पर ऋचा को जमानत दी थी. कोर्ट ने यह भी कहा था कि पिठोरिया पुलिस के संरक्षण में मंगलवार शाम तक ऋचा कुरान की एक प्रति अंजुमन इस्लामिया के सदर मंसूर खलीफा को देगी. बाकी चार विभिन्न शिक्षण संस्थानों में बांटेगी. इसके लिए ऋचा को 15 दिन का समय दिया गया है.

इनपुट- ओमप्रकाश

ये भी पढ़ें- ऋचा पटेल के समर्थन में आए मंत्री, कहा- मुझे भी यह फैसला पच नहीं रहा

हाईकोर्ट जाएंगी ऋचा पटेल, बोलीं- मेरे लिए जैसे गीता वैसे कुरान..पर सजा मंजूर नहीं
First published: July 17, 2019, 3:52 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...