• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • झारखंड सरकार खरीद-फरोख्त मामला: पुलिस के साक्ष्य से अटकी कांग्रेस विधायकों की सांस

झारखंड सरकार खरीद-फरोख्त मामला: पुलिस के साक्ष्य से अटकी कांग्रेस विधायकों की सांस

बुधवार को कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम के आवास पर पार्टी के आठ विधायकों की बैठक हुई जिनमें उनसे अलग-अलग पूछताछ की गई

बुधवार को कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम के आवास पर पार्टी के आठ विधायकों की बैठक हुई जिनमें उनसे अलग-अलग पूछताछ की गई

Jharkhand News: हर दिन नये खुलासों से दागदार होती छवि को बचाने के लिये कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम (Alamgir Alam) के आवास पर आठ विधायकों की बैठक हुई. अंदर बैठक में विधायकों से उनकी भूमिका को लेकर सवाल पूछे गए, जबकि बाहर कांग्रेस के विधायक कुछ और ही गाना गा रहे थे

  • Share this:

रांची. झारखंड में विधायकों के खरीद-फरोख्त मामले की जांच कर रही पुलिस के साक्ष्य (सबूत) ने कांग्रेस के विधायकों (Congress MLA) की सांस अटका दी है. हर दिन नये खुलासों से दागदार होती छवि को बचाने के लिये कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम (Alamgir Alam) के आवास पर आठ विधायकों की बैठक हुई. अंदर बैठक में विधायकों से उनकी भूमिका को लेकर सवाल पूछे गए, जबकि बाहर कांग्रेस के विधायक कुछ और ही गाना गा रहे थे.

किसी को धनबाद में पार्टी कार्यालय की चिंता सता रही है, तो किसी को पुल नहीं बनने का दर्द. कोई खुद को कांग्रेस का सच्चा सिपाही बताने में जुटा था, तो कोई मीडिया से मुंह छिपा रहा था. झारखंड कांग्रेस (Jharkhand Congress) का यह हाल है. विधायकों के खरीद-फरोख्त मामले ने कांग्रेस को इस मुकाम पर लाकर खड़ा कर दिया है कि अब बहाना बनाते भी नहीं बन रहा. बुधवार को आलमगीर आलम के आवास पर आयोजित विधायकों की बैठक में यही सब देखने को मिला. बैठक में कांग्रेस के आठ विधायक शामिल हुए. बंद कमरे में हर विधायक से कई तरह के सवाल पूछे गए. लेकिन जब यही विधायक बाहर निकले तो उनकी जुबां पर कुछ और ही राग था. झरिया की विधायक पूर्णिमा नीरज सिंह ने कहा कि वो धनबाद में पार्टी कार्यालय बनाने की मांग लेकर पहुंची थीं. वहीं, बड़कागांव के विधायक अंबा प्रसाद ने क्षेत्र में पुल निर्माण की बात कहते हुए मीडिया से अपना पिंड छुड़ाया.

खरीद-फरोख्त का मामला सार्वजनिक होने के बाद से कांग्रेस विधायकों की बैठक होने की बात कही जा रही थी. मगर इतने गंभीर मुद्दे पर भी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव इत्मीनान दिखे. उन्होंने पुलिस जांच में व्यवधान नहीं डालने की बात तक कह डाली. हालांकि मंगलवार को जब बैठक आहूत हुई तो कुछ खास विधायक तलब किये गए. बैठक खत्म होने के बाद कांग्रेस के विधायक इरफान अंसारी एक बार फिर खुद को पार्टी का सच्चा सिपाही होने का दावा चीख-चीख कर करते नजर आए. जबकि अन्य दूसरे विधायकों ने मीडिया का सामना करने की हिम्मत नहीं जुटाई. ज्यादातर विधायक कैमरा देख कर मुंह छिपाते और भागते नजर आए.

दरअसल प्रदेश कांग्रेस अब डैमेज कंट्रोल में जुट गई है. बैठक के बाद आलमगीर आलम ने विधायकों के एकजुट होने का मजबूत दावा किया. डैमेज कंट्रोल का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि कांग्रेस के नेता दिल्ली दौरे से लेकर बीजेपी नेताओं से मुलाकात की बात को महज संयोग बताने में जुट गए हैं. वैसे पुलिस अनुसंधान पर पार्टी को कोई एतराज नहीं है, पर मीडिया में इस अनुसंधान की बात सार्वजनिक होने का मलाल जरूर है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज