Ranchi News: कोरोना का खौफ, नहीं मिल रहे कब्र खोदने वाले मजदूर; बढ़ी मुसीबत

रांची में कोरोना की तेज रफ्तार के बीच हालात बहुत चिंताजनक हैं.

रांची में कोरोना की तेज रफ्तार के बीच हालात बहुत चिंताजनक हैं.

Jharakhand Corona: रांची में कोरोना संक्रमण की दूसरे लहर ने चिंता बढ़ा दी है. स्वास्थ्य व्यस्था लचर स्थिति के साथ सरकार की तैयारियों की भी पोल खोल कर रख दी है.

  • Share this:
रांची. कोरोना की रफ्तार अब राजधानी रांची को झकझोर रही है. अस्पताल में बेड की कमी है तो वहीं श्मशान हो या कब्रिस्तान, हालात बहुत चिंताजनक हैं. शहर के रातू कब्रिस्तान में जहां कब्र खोदने के लिए मजदूर नहीं मिल रहे, वहीं हरमू स्थित विद्युत शव दाह गृह अब तक खराब ही है. वहां भी कोविड संक्रमितों का अंतिम संस्कार नहीं हो पा रहा. कोविड संक्रमित शवों को जलाने में परेशानी हो रही है. वैकल्पिक व्यवस्था के तहत इन्हें खुले में नामकुम स्थित घाघरा में जलाए जा रहा है जो पूर्णतया सुरक्षित नहीं है. लोग भी परेशान हैं. नगर निगम इसे दुरुस्त करने को लेकर तमाम कवायद में जुटा हुआ है. विद्युत शव दाह गृह पूर्ण रूप से संचलित हो, इसे लेकर बाहर से टेक्निकल्कि टीम भी बुलाई गई लेकिन 15 मिनट कार्य करने बाद ही फिर से शव दाह गृह के दो बर्नर खराब हो गए. अब दिल्ली से टीम बुलाई गई जो इसे दुरुस्त करेगी ताकि सुरक्षित तरीके से अंतिम संस्कार हो सके. मामले को लेकर नगर आयुक्त मुकेश कुमार और स्वास्थ्य पदाधिकारी डॉ. किरण ने बताया कि बुधवार से शव दाह गृह चालू हो जाएगा.

Youtube Video


कब्रिस्तान जाने को तैयार नहीं मजदूर

कोविड संक्रमितों की मौत की परेशानी सिर्फ श्मशान घाटों में ही नहीं बल्कि कब्रिस्तान का भी हाल कुछ यही है. यहां भी मृतकों की लंबी कतार है क्योंकि मृतकों को दफनाने के लिए कब्र नहीं है. कब्रिस्तान में कब्र खोदने वाले मजदूर कोविड संक्रमण के डर से कब्रिस्तान से भाग खड़े हो रहे हैं. कब्र खोदने के लिए रातू कब्रिस्तान में जेसीबी की व्यस्था की जा रही है ताकि शवों को दफनाया जा सके. मंगलवार को भी रातू कब्रिस्तान में करीब 10 शव पहुंचे जिनमें 2 शव कोविड पॉजिटिव मरीजों के थे लेकिन कब्र खोदने वाले मजदूर नदारद रहे. मामले की जानकारी देते हुए अंजुमन इस्लामिया के मुख्तार अहमद ने बताया कि वर्तमान में मृतकों की संख्या काफी बढ़ी है जिस कारण कब्रिस्तान में भी लोगो को घंटों इंतज़ार करना पड़ रहा है. हालांकि उन्होंने बताया कि कब्रिस्तान में जगह की कोई कमी नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज