गर्मी शुरू होते ही सूखने के कगार पर रांची का हटिया डैम, मात्र 7 फीट बचा पानी, घूमते दिखे मवेशी
Ranchi News in Hindi

गर्मी शुरू होते ही सूखने के कगार पर रांची का हटिया डैम, मात्र 7 फीट बचा पानी, घूमते दिखे मवेशी
रांची के हटिया डैम में मात्र सात फीट पानी बचा है.

सामान्य दिनों में हटिया डैम (Hatia Dam) से आठ एमजीडी पानी की सप्लाई राजधानी के विभिन्न इलाकों में होती है. लेकिन गर्मियों में यह मांग बढ़ जाती है. ऐसे में सूखते हटिया डैम का असर रांची के बड़े क्षेत्र की जलापूर्ति पर पड़ना तय है

  • Share this:
रांची. झारखंड की राजधानी रांची (Ranchi) के बड़े हिस्से को पेयजल आपूर्ति करने वाला हटिया डैम (Hatia Dam) सूखने के कगार पर पहुंच चुका है. 37 फीट पानी की क्षमता वाले इस डैम में महज सात फीट पानी (Water) बचा है. ऐसी स्थिति तब है जब यहां मानसून (Monsoon) आने में देरी है. पिछले 58 साल में एक-आधा बार ही ऐसी स्थिति हुई होगी, जब डैम में महज सात फीट पानी बचा हो. वो भी तब जब पिछले डेढ़ महीने से सप्ताह में दो दिन पानी की राशनिंग हो रही है. डैम के जलस्तर पर नजर रखने वाले सहायक अभियंता इस स्थिति को क्रिटिकल (गंभीर) बता रहे हैं.

हटिया डैम के सहायक अभियंता संतोष कच्छप ने कहा कि ऐसी स्थिति पहले एक-आधा बार ही हुई होगी. डैम में अभी सिर्फ सात फीट से कुछ ज्यादा पानी बचा हुआ है. रोजाना 8.5 एमजीडी पानी की पूर्ति यहां से होती है. फिलहाल सप्ताह में दो दिन राशनिंग हो रही है, लेकिन इसे बढ़ाने या नहीं बढ़ाने को लेकर अगले माह बैठक होगी.

रांची के इन इलाकों में होती है जलापूर्ति



बता दें कि वर्ष 1962 में एचईसी प्लांट और आसपास की आबादी को पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए हटिया डैम का निर्माण कराया गया था. वर्तमान में इसमें पानी का स्तर इतना कम हो गया है कि इसमें पशु घूमते नजर आ जाते हैं. लोग आराम से बाइक चला लेते हैं. यानी डैम की यह स्थिति चिंताजनक है. हटिया डैम से एचईसी प्लांट, एचईसी क्षेत्र में बसी बड़ी आबादी, बिरसा चौक, हिनू, हटिया, डोरंडा, नार्थ ऑफिस पाड़ा और एजी कॉलोनी में जलापूर्ति होती है. डैम के घटते जलस्तर को देखते हुए अब पेयजल एवं आपूर्ति विभाग के अधिकारी अगले महीने बैठक कर यह फैसला लेंगे कि पानी की राशनिंग सप्ताह में दो दिन से ज्यादा बढ़ाई जाए या नहीं.
पेयजल एवं स्वच्छता विभाग की ये है योजना 

राज्य के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने कहा कि पिछले साल कम बारिश होने के चलते हटिया डैम की यह स्थिति हुई है. इसको देखते हुए रुक्का डैम से जुड़ी सप्लाई पाइप को 18 इंच से बढ़ाकर 30 फीट मोटी करने की योजना है. वहीं मानसून आने तक प्रभावित क्षेत्रों में टैंकर और अन्य वैकल्पिक व्यवस्था से जलापूर्ति को सुचारू रखने के निर्देश दिए गए हैं, ताकि गर्मी में लोगों को पानी की दिक्कत न हो.

सामान्य दिनों में हटिया डैम से आठ एमजीडी पानी की सप्लाई राजधानी के विभिन्न इलाकों में होती है. लेकिन गर्मियों में यह मांग बढ़ जाती है. ऐसे में सूखते हटिया डैम का असर रांची के बड़े क्षेत्र की जलापूर्ति पर पड़ना तय है.

ये भी पढ़ें- Corona के चलते रातों-रात फेमस हो गया यह स्‍कूल, वायरल हो रहीं तस्‍वीरें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading