Assembly Banner 2021

आदिम जनजाति 'बिरहोर' की घटती आबादी से चिंतित झारखंड सरकार! RIMS और TRI करेंगे रिसर्च

आदिम जनजाति बिरहोर की मॉडल तस्वीर

आदिम जनजाति बिरहोर की मॉडल तस्वीर

आदिम जनजाति बिरहोर (Scheduled Tribe Birhor) की घटती आबादी पर ट्राइबल रिसर्च इंस्टीट्यूट (TRI) के साथ मिलकर रिम्स (RIMS) का प्रिवेंशन एंड सोशल मेडिसिन विभाग (PSM) फर्टिलिटी, पोषण, जीन, मोर्टेलिटी सहित सभी पर रिसर्च करेगा और छह माह में सरकार को रिपोर्ट सौंप देगा

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 10, 2021, 7:18 PM IST
  • Share this:
रांची. आदिम जनजाति बिरहोर (Scheduled Tribe Birhor) की घटती संख्या को लेकर झारखंड सरकार (Jharkhand Government) चिंतित दिख रही है. ट्राइबल रिसर्च इंस्टीट्यूट (TRI) और रिम्स मिलकर उन कारणों को जानने की कोशिश करेंगे जिसकी वजह से बिरहोरों की आबादी अब मात्र कुछ हजार ही बची है. झारखंड (Jharkhand) में आदिम जनजाति बिरहोर की जनसंख्या 10 हजार के लगभग शेष रह गई है. सरकार उन वजहों की तलाश करने जा रही है जिसके चलते यह लगातार घटते जा रहे हैं. TRI, रांची के निदेशक रणेन्द्र कुमार कहते हैं कि रिसर्च से उन वजहों का पता चल सकेगा जिसके चलते बिरहोर (Birhor Tribe) लगातार घट रहे हैं. वजह जानने के बाद इनकी आबादी बढ़ाने में सफलता मिलेगी.

ट्राइबल रिसर्च इंस्टीट्यूट के साथ मिलकर रिम्स का प्रिवेंशन एंड सोशल मेडिसिन विभाग (PSM) फर्टिलिटी, पोषण, जीन, मोर्टेलिटी सहित सभी पर रिसर्च करेगा और छह माह में रिपोर्ट सौंप देगा. रिम्स के PSM विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ एस.बी सिंह के नेतृत्व में इस रिसर्च में आदिम जनजाति बिरहोरों के स्वास्थ्य, उनके रहन-सहन, बीमार पड़ने पर अस्पताल की उपलब्धता, महिलाओं में पोषण स्तर, हीमोग्लोबिन की स्थिति के साथ-साथ जीन का भी ऑब्जर्वेशन करेंगे ताकि यह पता चल सके कि किस वजह से बिरहोरों की संख्या नहीं बढ़ रही.

रिम्स के अधीक्षक डॉ. विवेक कश्यप ने न्यूज़ 18 से बातचीत में कहा कि झारखंड में आठ आदिम जनजातियां निवास करती हैं. इनकी घटती संख्या चिंता का विषय है, इन्हें बचाना जरूरी है ताकि मानव विकास से जुड़ी कई जानकारियां सुरक्षित रह सकें. उम्मीद की जानी चाहिए कि अब रिम्स और TRI का रिसर्च बिरहोरों की संख्या बढ़ाने में मददगार होगा.



बता दें कि बिरहोर आदिवासी अभी रांची, रामगढ़, हजारीबाग, बोकारो, गिरिडीह और कोडरमा में मिलते हैं. टोकरी-रस्सी बनाकर जीवन यापन करने वाले बिरहोर की आबादी वर्ष 2011 के जनगणना के अनुसार दस हजार से कुछ ही ज्यादा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज