Home /News /jharkhand /

ranchi khelgaon management not providing specialized coaches for athletes of different sports bruk

Jharkhand: रांची के खेलगांव में ट्रेनिंग ले रहे एथलीट्स के भविष्य के साथ हो रहा खिलवाड़! जानें पूरा मामला

Ranchi Khelgaon News: खिलाड़ियों का आरोप है कि रांची के खेलगांव में विशेषज्ञ कोच नहीं उपलब्ध कराये जा रहे हैं.

Ranchi Khelgaon News: खिलाड़ियों का आरोप है कि रांची के खेलगांव में विशेषज्ञ कोच नहीं उपलब्ध कराये जा रहे हैं.

Ranchi Khelgaon News: अंतर्राष्ट्रीय स्तर के एथलीट रामचंद्र सांगा ने बताया कि जिस उम्मीद से वे अपना घर छोड़कर खेलगांव आये थे. वे सभी उम्मीदें टूट रही हैं. उन्होंने बताया कि पूर्व में कोच अरविंद सर का तबादला बोकारो हो जाने के बाद विशेषज्ञ कोच को प्रभार नहीं दिया गया है. बल्कि शॉटपुट डिस्कस थ्रोअर कोच को प्रभार में एथलीट की जिम्मेदारी दे दी गयी है.

अधिक पढ़ें ...

रांची. अपने खेल से झारखंड का नाम रोशन करने वाले खिलाड़ियों के साथ ही इन दिनों खिलवाड़ किया जा रहा है. रांची के खेलगांव में प्रशिक्षण ले रहे एथलीट्स के ट्रेनिंग के नाम पर महज खानापूर्ति और मजाक किया जा रहा है. ऐसे में अपना घर बार सब कुछ छोड़कर खेल में करियर बनाने पहुंचे इन खिलाड़ियों को अपना भविष्य अंधकार में नजर आ रहा है. झारखंड के खिलाड़ी मेहनत करने और पसीना बहाने से कभी नहीं चूकते. वे न थकते हैं न हारते हैं. बस लक्ष्य को ध्यान में रखकर अपना सब कुछ दांव पर लगा देते हैं. लेकिन, रांची के खेलगांव में एथलीट्स में अपना करियर बनाने पहुंचे राज्य के सभी जिलों के अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है.
अंतर्राष्ट्रीय स्तर के एथलीट रामचंद्र सांगा ने बताया कि जिस उम्मीद से वे अपना घर छोड़कर खेलगांव आये थे. वे सभी उम्मीदें टूट रही हैं. उन्होंने बताया कि पूर्व में कोच अरविंद सर का तबादला बोकारो हो जाने के बाद विशेषज्ञ कोच को प्रभार नहीं दिया गया है. बल्कि शॉटपुट डिस्कस थ्रोअर कोच को प्रभार में एथलीट की जिम्मेदारी दे दी गयी है. यही शिकायत हाई जम्प की नेशनल एथलीट संजना लकड़ा भी करती हैं. संजना ने बताया कि हाई जम्प में कोई भी स्पेशलिस्ट कोच खेलगांव में सरकार की ओर से उपलब्ध नहीं कराया गया है. दूसरे खेलों के कोच को ही जिम्मेदारी दे दी गयी है. जिससे पसीना तो बहाया जा सकता है. लेकिन पदक नहीं जीता जा सकता.

नहीं उपलब्ध कराए गए विशेषज्ञ कोच 
400 मीटर के नेशनल एथलीट विकास कुमार महतो और नेशनल एथलीट तन्नू सांगा ने बताया कि खेलगांव में राज्य के सभी जिलों से एथलीट यहां पहुंचे हैं. ये सभी खुद के खर्चे पर किराये पर रहकर खेलगांव में प्रशिक्षण ले रहे हैं. लेकिन, प्रशिक्षण के लिए उन्हें विशेषज्ञ कोच उपलब्ध नहीं कराए गए हैं. बल्कि दूसरे खेल से जुड़े कोच को महज ट्रेनिंग के नाम पर ड्यूटी पर लगा दिया गया है, जिससे आने वाली प्रतियोगिताओं में उनकी दावेदारी पर सवाल खड़े हो गए है. वहीं शॉटपुट डिस्कस थ्रो से जुड़े प्रभारी कोच अगनु उरांव साफ कहते हैं कि वे खुद को एथलीट के प्रशिक्षण के लिए फिट नहीं मानते. उन्होंने बताया कि उन्हें 30 मार्च को एथलीट में प्रशिक्षण को लेकर प्रभार दिया गया था. लेकिन उनके पास सिखाने के लिए वह तकनीक नहीं है, जो एक विशेषज्ञ एथलीट प्रशिक्षक के पास होता है.

खेलो इंडिया प्रतियोगिता में होना है शामिल 

दरअसल इन खिलाड़ियों को अगले महीने हरियाणा में होने वाले खेलो इंडिया प्रतियोगिता में शामिल होना है। उसके बाद अगस्त में कोलंबिया में होने वाले वर्ल्ड यूथ चैंपियनशिप में अपनी दावेदारी को लेकर ट्रायल भी देना है। ऐसे में खेलगांव में प्रशिक्षण ले रहे तमाम एथलीट्स खुद के लिए एक बेहतर कोच की मांग कर रहे हैं।  वही प्रभारी कोच अगनु उरांव शॉटपुट डिस्कस थ्रो खेल से जुड़े रहे हैं। वे मानते हैं कि वे स्प्रिंटर यानी एथलीट्स की ट्रेनिंग के लिए फिट नहीं है। ‌

Tags: Jharkhand News Live, Ranchi Khelgaon, Sports news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर