Ranchi News: कोरोना से जारी जंग पर कांग्रेस प्रदेश कमेटी गंभीर, अब कालाबाजारियों के खिलाफ होगी कार्रवाई

वैक्सीन के लिए लोगों को प्रेरित करने का निर्देश भी रामेश्वर उरांव ने दिया.

वैक्सीन के लिए लोगों को प्रेरित करने का निर्देश भी रामेश्वर उरांव ने दिया.

इस दौरान कालाबाज़ारी और निजी अस्पतालों (Private Hospitals) की मनमानी को लेकर भी प्रदेश अध्यक्ष को कई शिकायतें मिली हैं.

  • Share this:
रांची. झारखंड कांग्रेस अध्यक्ष रामेश्वर उरांव (Rameshwar Oraon) ने कोविड-19 संक्रमण (Covid-19 Infection) के कारण लोगों को हो रही परेशानियों को लेकर बैठ की. यह बैठक फीडबैक लेने को लेकर झारखंड कांग्रेस के जिला अध्यक्षों के साथ वर्चुअल तरीके से आयोजित की गई थी. इस दौरान कालाबाज़ारी और निजी अस्पतालों (Private Hospitals) की मनमानी को लेकर भी प्रदेश अध्यक्ष को कई शिकायतें मिली हैं. जिसे लेकर उन्होंने कहा कि इस मामले को स्वस्थ्य मंत्री और स्वास्थ्य सचिव को जानकारी दी जाएगी. ताकि इनपर कार्रवाई की जा सके.

आपदा को अवसर के रूप में इस्तेमाल कैसे किया जाता है इसे निजी अस्पताल और कालाबाज़ारीयों को देखकर समझा जा सकता है. प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव की वर्चुअल मीटिंग में ये बातें सामने आई हैं. कांग्रेस के जिला अध्यक्षों ने ये बातें अपने प्रदेश अध्यक्ष से साझा की. और बताया कि 5 से 6 हज़ार रुपए में मिलने वाला ऑक्सीजन सिलिंडर 20 हज़ार में दी जा रही है. वहीं, निजी अस्पताल भी अपनी मनमानी कर रहे हैं और मरीजों से मनमानी पैसा वसूल रहे हैं. जिसे लेकर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सह वित्त मंत्री ने कहा कि मामले से सरकार को अवगत कराएंगे, ताकि मरीजो का शोषण नहीं हो.

जिले में ही व्यवस्था की जाए

वहीं, वैक्सीन के लिए लोगों को प्रेरित करने का निर्देश भी रामेश्वर उरांव ने दिया. वैक्सीन के लिए लोगों को टेलीफोनिक द्वारा जागरूक किया जाए. वहीं, उन्होंने बताया कि 65% लोगों को टिका लेने से कोरोना नहीं हुआ है और जिसे हुआ भी तो उन्हें कोई खतरा नहीं हुआ. होर्डिंग के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जाएगा. वहीं, रांची के अस्पताल में ओवरलोड पर रामेश्वर उरांव ने कहा कि संक्रमण बढ़ा है, जिस वजह से ये स्थिति हुई है.  वहीं, दूसरे जिलों के लोगों को भी रांची भेज दिया जा रहा है. जिस कारण यहां बेड की क़िल्लत हो रही है. इसके लिए जरूरत है वहां के लोगों को अगर ज्यादा परेशानी न हो तो उसी जिले में ही व्यवस्था की जाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज