राज्यपाल रमेश बैस के शपथग्रहण समारोह में दो पूर्व CM को नहीं किया गया आमंत्रित

रमेश बैस ने झारखंड के दसवें राज्यपाल के रूप में शपथ ली है. उन्होंने यहां द्रौपदी मुर्मु की जगह ली है

Jharkhand News: शपथ ग्रहण समारोह के बाद राज्यपाल रमेश बैस ने कहा कि झारखंड को विकास के धरातल पर उतारने के लिए सरकार के साथ हमेशा मेरा सहयोग रहेगा. राज्यपाल के रूप में आज मेरा पहला दिन है, मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से बात हुई है. मैंने उनसे कहा है जब भी आपको मेरी जरूरत लगे, आपके लिए मेरा द्वार हमेशा खुला है.

  • Share this:
रांची. रमेश बैस ने झारखंड के दसवें राज्यपाल के रूप में शपथ ली है. बुधवार को राजभवन में झारखंड हाईकोर्ट (Jharkhand High Court) के मुख्य न्यायाधीश रवि रंजन ने रमेश बैस (Ramesh Bais) को राज्यपाल पद की शपथ दिलवाई. शपथ ग्रहण समारोह (Oath Ceremony) के बाद राज्यपाल रमेश बैस ने कहा कि झारखंड (Jharkhand) को विकास के धरातल पर उतारने के लिए सरकार के साथ हमेशा मेरा सहयोग रहेगा. राज्यपाल के रूप में आज मेरा पहला दिन है, मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) से बात हुई है. मैंने उनसे कहा है जब भी आपको मेरी जरूरत लगे, आपके लिए मेरा द्वार हमेशा खुला है. उन्होंने कहा कि राज्य की जनता के लिए मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए यदि जरूरत पड़ी तो केंद्र सरकार से भी पहल करेंगे.

राज्यपाल के शपथ ग्रहण समारोह में मुख्मंत्री हेमंत सोरेन के अलावा विधानसभा अध्यक्ष रवींद्रनाथ महतो, मंत्री रामेश्वर उरांव, आलमगीर आलम, मिथिलेश कुमार ठाकुर, सत्यानंद भोक्ता, बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सह सांसद दीपक प्राकश, राजधानी रांची के सांसद संजय सेठ, विधायक सीपी सिंह, मुख्य सचिव सुखदेव सिंह और पुलिस महानिदेशक नीरज सिन्हा समेत कई नामचीन लोग मौजूद थे.

हालांकि भाजपा प्रदेश महामंत्री आदित्य साहू ने राज्य सरकार की कार्यशैली पर अपनी कड़ी प्रतिक्रिया दी.
साहू ने कहा राजभवन में महामहिम राज्यपाल के शपथ समारोह में राज्य के दो पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी और रघुवर दास को आमंत्रित नहीं किया जाना दुर्भाग्यजनक है. उन्होंने कहा कि यह सरकार की ओछी मानसिकता का परिचायक है.

झारखंड का राज्यपाल बनने से पहले रमेश बैस पूर्वोत्तर के राज्य त्रिपुरा के राज्यपाल थे. उन्होंने यहां द्रौपदी मुर्मू की जगह ली है. रमेश बैस के झारखंड के दसवें राज्यपाल बनने पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने खुशी जाहिर की है और केंद्र से बेहतर समन्वय की उम्मीद जताई. इस अवसर पर नए राज्यपाल ने मुख्यमंत्री को सहयोग का आश्वासन दिया.

बता दें कि रमेश बैस पूर्व में बीजेपी के सांसद रह चुके हैं. वो छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से लगातार सात बार सांसद चुने गए थे. रमेश बैस केंद्र की अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं. उन्होंने केंद्रीय मंत्रिमंडल में सूचना एवं प्रसारण, रासायनिक एवं उर्वरक, खान, पर्यावरण एवं वन जैसे मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाली थी.

रमेश बैस कभी चुनाव नहीं हारे. इसके बावजूद भी 2019 के आम चुनाव में उन्हें टिकट नहीं दिया गया. हालांकि केंद्र में दूसरी बार नरेंद्र मोदी सरकार बनने के बाद उन्हें राज्यपाल बनाया गया. अब उन्हें झारखंड का राज्यपाल बनाया गया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.