रांची का रानी कुआं: जिसने भी इसके पानी को जूठा किया, वो हो गया अपंग

स्थानीय निवासी बताते हैं कि एक समय था जब इस कुएं के पानी से नहाने पर हर प्रकार के चर्म रोग खत्म हो जाते थे. लोग पूजा-पाठ में भी इसी कुएं के पानी का इस्तेमाल करते थे.

Ajay Lal | News18 Jharkhand
Updated: August 6, 2019, 2:30 PM IST
रांची का रानी कुआं: जिसने भी इसके पानी को जूठा किया, वो हो गया अपंग
रांची के कांके प्रखंड में स्थित रानी कुआं कभी नहीं सूखता है.
Ajay Lal
Ajay Lal | News18 Jharkhand
Updated: August 6, 2019, 2:30 PM IST
रांची के कांके प्रखंड के बुकरू बस्ती में ढाई सौ साल पुराना एक ऐसा कुआं है, जो भयंकर सुखाड़ में भी पानी से लबालब रहता है. इस चमत्कारिक कुएं के निर्माण को देखकर बड़े-बड़े इंजीनियर भी चक्कर खा जाए. साढ़े तीन सौ फीट गहरे इस कुएं में नीचे उतरने के लिए सुरंगनुमा दो सीढ़ियां हैं. लेकिन ग्रामीण इसमें नीचे उतरने से कतराते हैं. ऐसा कहा जाता है कि जिसने भी कुएं में उतरकर पानी को जूठा करने की कोशिश की, उसे शारीरिक परेशानी झेलनी पड़ी.

रानी कुएं का ऐसे हुआ निर्माण 

रांची से 23 किलोमीटर दूर कांके प्रखंड का बुकरू बस्ती. यह बस्ती हिन्दू-मुस्लिम सौहार्द के लिए फेमस है. इसके अलावा यहां मौजूद एक कुएं ने भी इस बस्ती को चर्चित बनाया है. इस कुएं का नाम रानी कुआं है. यह घने जंगल में स्थित है. दूर से देखने पर यह कुआं सामान्य सा दिखता है. लेकिन इसमें झांकने पर इसके निर्माण को देखकर हैरानी होती है. यह कुआं साढ़े तीन सौ फीट गहरा है.

कुआं बनाने वाले राज परिवार के सदस्य ओंकारहरि साहू ने बताया कि एक बार उनके परिवार के एक राजा की मौत हो गयी थी. जब उनका अंतिम संस्कार हो रहा था, तो वे अचानक उठ खड़े हुए. यह देखकर श्मशान घाट में मौजूद लोग भाग खड़े हुए. बाद में राजा अपनी पत्नी के पास पहुंचे और कहा कि एक काम शेष रह गया है. उसी राजा ने अपनी रानी की देखरेख में इस कुएं का निर्माण कराया. राजा ने तब कारीगरों को कहा था कि ऐसा कुआं बनाओ कि इसके पास से कभी कोई प्यासा न लौटे.

well
कुएं में उतरने के लिए सुरंगनुमा सीढ़ी


किस्सा सुनकर रातु महाराज हुए थे प्रभावित  

स्थानीय निवासी बताते हैं कि एक समय था जब इस कुएं के पानी से नहाने पर हर प्रकार के चर्म रोग खत्म हो जाते थे. लोग पूजा-पाठ में भी इसी कुएं के पानी का इस्तेमाल करते थे.
Loading...

लोग बताते हैं कि रानी कुएं के किस्से सुनकर रातु महाराज भी दल- बल के साथ इसे देखने पहुंचे थे. लेकिन अब यह कुआं बदहाल हो गया. घरों में पानी की आपूर्ति होने लगी, तो लोग इस कुएं को भूलते चले गये.

इस कुएं को लेकर एक किस्सा यह भी प्रचलित है कि एक बार दो लोगों ने इसमें नीचे उतरकर इसके पानी को जूठा किया, तो दोनों शख्स लकवाग्रस्त हो गया. तब से इसके पानी को जूठा करने की कोई हिम्मत नहीं करता है.

ये भी पढ़ें- सिर्फ 15 दिन तक मुंहबोले भाई ने नाबालिग को बहन समझा, उसके बाद करने लगा दुष्कर्म

बेटी बनाकर पिता लाया था घर, बेटा 8 महीने तक करता रहा रेप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 6, 2019, 2:28 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...