रांची विश्वविद्यालय में उच्च शिक्षा हुई आसान, इंटर के बाद सीधे करें B.Ed
Ranchi News in Hindi

रांची विश्वविद्यालय में उच्च शिक्षा हुई आसान, इंटर के बाद सीधे करें B.Ed
रांची विश्वविद्यालय में इंटीग्रेटेड कोर्स की शुरुआत

फाइनल बीए करते करते छात्रों का चार साल बर्बाद हो जाता था और फिर उसके बाद बीएड करने में दो साल का वक्त लगता था.

  • Share this:
रांची विश्वविद्यालय ने उच्च शिक्षा की राह को आसान कर दिया है. रांची विवि ने अपने विभिन्न कॉलेजों में इंटीग्रेटेड कोर्स की शुरुआत की है. इस कोर्स की खासियत ये है कि कोई भी छात्र इंटर के बाद सीधे बीएड या फिर एलएलबी में एडमिशन ले सकता है. इससे छात्रों को बीए के बाद बीएड या फिर बीए के बाद एलएलबी जैसे टाइम किलिंग कोर्स से छूटकारा मिलेगा.

हाईटेक होती दुनिया और छात्रों के बीच जल्द से जल्द हूनरमंद होने की दिशा में रांची विश्वविद्यालय ने भी अपनी रफ्तार तेज कर दी है. रांची विवि अपने विभिन्न कॉलेजों में इंटीग्रेटेड कोर्स की शुरुआत अप्रैल से कर देगी. इंटीग्रेटेड कोर्स की खासियत ये है कि मेडिकल और इंजीनियरिंग के माफिक छात्र इंटर के बाद अपना वीजन साफ करते हुए बीएड या फिर लॉ में एडमिशन ले सकता है.

इससे पहले तीन वर्षीय बीए करने के बाद छात्रों को बीएड में एडमिशन लेना होता था. फाइनल बीए करते करते छात्रों का चार साल बर्बाद हो जाता था और फिर उसके बाद बीएड करने में दो साल का वक्त लगता था. यानि सबकुछ करते करते छात्रों को सात साल का वक्त लग जाता था. लेकिन अब छात्र अगर चाहें तो उन्हें पांच साल में स्नातक तुल्य बीएड और एलएलबी की डिग्री मिल सकती है.



रांची विवि प्रशासन ने जानकारी दी है कि छात्र-छात्राएं इस साल इंटर परीक्षा परिणाम के बाद इंटीग्रेटेड कोर्स के तहत लीगल स्टडीज यानी एलएलबी में एडमिशन ले सकते हैं. विवि का मानना है कि इससे छात्रों को स्पेशियालाइज्ड कोर्स करने में फायदा मिलेगा. इससे छात्र इंटर के बाद ही अपने विजन के साथ अपने क्षेत्र में आगे बढ़ सकते हैं. साथ ही बगैर सोच के बीए करने जैसे छात्रों की भीड़ भी कम होगी.
रांची विवि द्वारा शुरू किए जा रहे इंटीग्रेटेड कोर्स को लेकर विवि में फिलहाल संतोषजनक माहौल है. लेकिन एक सवाल यह भी उठता है कि इंटीग्रेटेड कोर्स के लिए विशेषज्ञ शिक्षक कहां से लाए जाएंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading