होम /न्यूज /झारखंड /Ranchi News:रांची की पुष्पा 65 साल की उम्र में शूरू की स्टार्ट अप! बुक जोन खोल लोगों को दे रही हैं किताबें

Ranchi News:रांची की पुष्पा 65 साल की उम्र में शूरू की स्टार्ट अप! बुक जोन खोल लोगों को दे रही हैं किताबें

रांची के कांके की रहने वाली पुष्पा पोद्दार ने उम्र को मात देकर एक बुक जोन की शुरुआत की है. पुष्पा कहती है कई बार हम सोच ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- शिखा श्रेया
रांची. 65 की उम्र में अधिकतर महिलाएं अपनी जिम्मेदारियों से मुक्त होकर आराम करने की सोचती हैं. इस उम्र में नई जिम्मेदारी लेना उनके लिए कई बार मुश्किल का सबब बन जाता है तो कई बार वक़्त और हालात भी ऐसे नहीं होते जिनमें महिलाएं कुछ अलग कर पाए. लेकिन इस उम्र में भी रांची के कांके की रहने वाली पुष्पा पोद्दार ने उम्र को मात देकर एक बुक जोन की शुरुआत की है.

बुक ज़ोन की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यहां आपको पूरे भारत और विश्व में सबसे अधिक पढ़ी जाने वाली किताबें आसानी से मिल जाएंगी. साथ ही नर्सरी के बच्चों से लेकर यंग और बूढ़े लोगों के लिए भी सेल्फ हेल्प, नोबेल व लिटरेचर का खास कलेक्शन मौजूद हैं. यहां अध्यात्म से जुड़ी किताबों भी मिल जाएंगी. बुक के शौकीनों को बाहर जाने की जरूरत नहीं, यहां सभी तरह की किताबों का अच्छा संग्रह उपलब्ध है.

पुष्पा पोद्दार कहती है, ‘मैं अपनी जिम्मेदारियों से मुक्त हो चुकी हूं. लेकिन घर पर बैठना बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता. काम करते रहने से तरोताजा महसूस तो करते ही है, साथ ही समाज में अपना अहम योगदान प्रदान करते हैं. इसलिए मैंने अपना एक बुक जोन खोला है. मुझे बचपन से ही किताबों से खासा लगाव रहा है’.

बच्चे और पति करते हैं प्रोत्साहित
पुष्पा कहती है मुझे मेरे पति काम को लेकर बहुत प्रोत्साहित करते हैं. साथ ही मेरी दो बेटी व एक बेटा है. तीनों की शादी हो चुकी है. वह भी मुझे आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करते हैं. हम पूरे परिवार साल में एक बार दिल्ली में आयोजित बुक फेयर में जरूर जाते हैं और वहां से कई चुनिंदा और नए पुस्तकें अपने कलेक्शन में शामिल करते हैं. उम्र के सवाल पर पुष्पा कहती है उम्र से कुछ नहीं होता अगर इंसान में जज्बा है कुछ करने का. वो कहते हैं ना जब जागो तब सवेरा.

छोटे स्तर से कर सकते हैं नई शुरुआत
पुष्पा कहती है कई बार हम सोचते हैं कि कुछ नया करने के लिए हमें बहुत पैसे या डिग्री की जरूरत पड़ेगी. लेकिन यह धारणा बिल्कुल गलत है. हर औरत के अंदर कुछ ना कुछ कला जरूर छुपी होती है. जैसे खाना बनाना, सिलाई, कढ़ाई, बुनाई किसी भी एक चीज को चुनकर बहुत छोटे स्तर पर शुरुआत कर अपने सपनों को पंख दे सकती है.

पैसे कमाने से अधिक जरूरी है खुश और आनंदित रहना
पुष्पा कहती है छोटे स्तर से आप कुछ शुरुआत करते हैं तो हो सकता है. आप पैसे कम कमा पाये. पर इस उम्र में जब आपने जिंदगी जी ली है तो अब पैसे नहीं बल्कि खुशी और आनंद तलाशनी चाहिए. जिस काम से आप बेहद प्यार करते हैं. अगर उसी में कुछ अलग करें तो समय के साथ जीवन भी खुशनुमा हो जाता हैं.

Tags: Books, Ranchi news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें