लाइव टीवी

Covid-19: विधायक निधि और वेतन के मुद्दे पर झारखंड में रार! कांग्रेस नेता ने कही ये बात
Ranchi News in Hindi

Amitesh | News18 Jharkhand
Updated: April 9, 2020, 7:29 PM IST
Covid-19: विधायक निधि और वेतन के मुद्दे पर झारखंड में रार! कांग्रेस नेता ने कही ये बात
मरांडी ने दो साल के विधायक निधि फ़ंड को कोरोना से लड़ाई के लिए देने की मांग की थी. (फाइल फोटो)

जामताड़ा से कांग्रेस विधायक और झारखंड कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष डॉक्टर इरफान अंसारी बीजेपी से नाराज हो गए हैं. इसका कारण पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी (Babulal Marandi) का दिया एक बयान है.

  • Share this:
रांची. जामताड़ा से कांग्रेस विधायक और झारखंड कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष डॉक्टर इरफान अंसारी बीजेपी से नाराज हो गए हैं. इसका कारण बीजेपी नेता और पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी (Babulal Marandi) द्वारा दिया गया एक बयान है. दरअसल, मरांडी ने दो साल के विधायक निधि फ़ंड (MLA Fund) को कोरोना से लड़ाई के लिए देने की मांग की थी. हालांकि विधायकों के वेतन देने को लेकर उनकी राय थोड़ी अलग है. इस प्रस्ताव पर अंसारी ने कहा कि मरांडी जितनी बड़ी बड़ी बातें करते हैं उतना कर पाने में वह कभी भी सक्षम नहीं रहे हैं. उन्होंने मरांडी पर आरोप लगाया कि वे सिर्फ सस्ती लोकप्रियता एवं मीडिया में बने रहने के लिए ऐसे बयान दे रहे हैं, जो समझ से परे हैं.
बचकाना है बयान
अंसारी ने पूर्व सीएम से पूछा कि क्या एक विधायक दल के नेता होने के नाते आपने बीजेपी विधायकों से इस पर राय ली है और क्या वे इस पर राजी हुए हैं? उन्होंने मरांडी पर तंज सकते हुए कहा कि बिना सोचे समझे इस तरह का बयान देना बड़ा ही बचकाना लगता है. उन्होंने कहा कि अगर बीजेपी के सभी विधायकों ने अपने 2 साल का वेतन राहत कोष में दिया तो मैं अपने 5 साल का वेतन सरेंडर कर दूंगा.

विधायक निधि का पैसा देने का नहीं है औचित्य



अंसारी का मानना है कि विधायक निधि का पैसा जनता के विकास के लिए होता है. उस पैसे को सरेंडर करने का कोई औचित्य नहीं है. उन्होंने कहा कि अगर आप सच में दान करना चाहते हैं तो अपने वेतन का पैसा दें, जिस पर सिर्फ आपका अधिकार होता है.
झारखंड में हुई है पहली मौत


बोकारो में 75 साल के कोरोना पॉजिटिव मरीज की बुधवार रात मौत हो गई थी. मृतक गोमिया के साड़म के रहने वाले थे. उनकी रिपोर्ट रात में ही कोरोना पॉजिटिव मिली थी. जानकारी मिल रही है कि ये बुजुर्ग हॉस्पिटल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती थे. जिले के सिविल सर्जन डॉ अशोक कुमार पाठक ने इस मौत की पुष्टि की है. झारखंड में कोरोना वायरस संक्रमण से हुई ये पहली मौत है. इसके अलावा यहां तीन अन्य मामले भी पाए गए हैं. तेलो की कोरोना पॉजिटिव महिला के तीन परिजन कोरोना वायरस से संक्रमित मिले हैं.

मेडिकल टीम जाएगी साड़म
जिला प्रशासन अब कोरोना के शिकार हुए बुजुर्ग की ट्रेवल हिस्ट्री की जानकारी पता करने में लगी है. इसके लिए मेडिकल टीम उसके गांव में जाएगी. प्रशासन इस गांव को सेनिटाइज भी करेगी. जानकारी के लिए बता दें कि 5 अप्रैल को बोकारो के चंद्रपुरा के तेलो गांव में तबलीगी जमात से जुड़ी महिला कोरोना पॉजिटिव मिली. हाल ही में बांग्लादेश से वापस लौटी इस महिला का बीजीएच में इलाज जारी है.

झारखंड में कोरोना मरीजों की संख्या हुई 13
बता दें कि झारखंड में कोरोना वायरस संक्रमण के पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 13 हो गई. उनमें से एक की मौत हो गई है. बुधवार देर रात 9 नये कोरोना पॉजिटिव केस की पुष्टि स्वास्थ्य विभाग ने की. इनमें पांच रांची और चार बोकारो के रहने वाले हैं. रांची में मिलने वाले पांच लोग हिंदपीढ़ी में मिलने वाली दूसरी कोरोना पॉजिटिव महिला के परिजन हैं. जबकि बोकारो के चार में तीन लोग तेलो में मिलने वाली कोरोना पॉजिटिव महिला के रिश्तेदार हैं. चौथे बुजुर्ग मरीज की मौत हो गई.

 

ये भी पढ़ें:

झारखंड में आगे बढ़ सकता है लॉकडाउन, डॉक्टरों की सलाह पर 13 को फैसला लेगी सरकार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 9, 2020, 7:06 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading