Home /News /jharkhand /

झारखंड में 20 सूत्री के गठन पर सरकार में घमासान! राजद और कांग्रेस तरेर रहीं आंखें

झारखंड में 20 सूत्री के गठन पर सरकार में घमासान! राजद और कांग्रेस तरेर रहीं आंखें

20 सूत्री कमिटी के गठन पर झारखंड सरकार में घमासान मचा हुआ है.

20 सूत्री कमिटी के गठन पर झारखंड सरकार में घमासान मचा हुआ है.

Jharkhand Politics: झारखंड में 20 सूत्री और 15 सूत्री कमिटी पर सत्तापक्ष में घमासान मचा हुआ है. राजद के नेताओं ने बगावत का झंडा बुलंद कर दिया है, वहीं कांग्रेस में इस्तीफे का दौरा शुरू हो गया है.

रांची. झारखंड में 20 सूत्री और 15 सूत्री कमिटी के निर्माण के साथ बगावत का आगाज हो गया है. जिला और प्रखंड स्तर पर चल रही कमिटी निर्माण की घोषणा के साथ जहां राजद ने उपेक्षा का आरोप लगाते हुए बगावत का झंडा बुलंद कर दिया है, वहीं कांग्रेस के अंदर नाराज नेताओं ने कमिटी से इस्तीफे के साथ संगठन और सरकार के खिलाफ हल्ला बोल दिया है.

झारखंड में सरकार गठन के दो साल बाद शुरू हुई 20 सूत्री और 15 सूत्री कमिटी इन दिनों चर्चा में है. जिला और प्रखंड स्तर पर शुरू हुई इस कमिटी ने गठबंधन सरकार के अंदर दरार पैदा कर दी है. राजद ने कमिटी निर्माण में उपेक्षा का आरोप लगाते हुए बगावत का झंडा बुलंद कर दिया है. रांची प्रदेश कार्यालय में जिला अध्यक्षों की बैठक में खुद की सरकार के खिलाफ लड़ाई को तेज करने का निर्णय लिया गया.

राजद की मांग है कि कमिटी निर्माण में जेएमएम और कांग्रेस की तरह उनकी भागीदारी होनी चाहिये. राजद जिलाध्यक्षों ने इस बावत लालू यादव और तेजस्वी यादव तक अपनी बात पहुंचाने का निर्णय लिया है. हजारीबाग जिला अध्यक्ष संजर मल्लिक और गढ़वा जिला अध्यक्ष सूरज सिंह का कहना है कि तीता-तीता थू-थू और मीठा-मीठा गप-गप नहीं चलेगा.

20 सूत्री और 15 सूत्री कमिटी निर्माण से राजद ही नहीं कांग्रेस में भी घमासान मचा है. इसकी शुरुआत कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर के गृह जिले से हुई है. बोकारो जिला के विमल कृष्ण चौबे, सुशील कुमार झा और लाल मोहन नायक ने 20 सूत्री के सदस्य पद से इस्तीफा दे दिया है. इनका आरोप है कि कमिटी निर्माण के वक्त वरीयता का ध्यान पार्टी ने नहीं रखा. हालांकि कांग्रेस के अंदर से उठे इस हल्ला बोल पॉलिटिक्स को प्रदेश कमिटी ने संज्ञान में लिया है.

प्रदेश प्रवक्ता राकेश सिन्हा ने कहा कि इस्तीफा देने से पहले अपनी बात को उचित प्लेटफार्म पर रखा जाना चाहिये था. वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष के समक्ष अपनी बात रखने के बाद कोई कदम उठाया जाना चाहिये था.

राज्य में गठबंधन सरकार के अंदर ये पहला मौका है जब बगावत की आवाज राजनीतिक गलियारों में गूंज रही है. अभी सभी 24 जिलों में कमिटी का निर्माण होना बाकी है. खास कर धनबाद और रांची जिले पर सबकी निगाहें टिकी हैं. इन दो जिलों में कमिटी निर्माण के बाद हंगामा होने के पूरे आसार अभी से नजर आ रहे हैं.

Tags: Jharkhand Congress, Jharkhand mukti morcha, Jharkhand Politics, RJD

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर