रांची: RIMS अस्पताल की खुली पोल, 60 लाख से ज्यादा में बना शवगृह हुआ खराब


स्वास्थ्यमंत्री ने दिए शवगृह को ठीक कराने के निर्देश दिए हैं.
स्वास्थ्यमंत्री ने दिए शवगृह को ठीक कराने के निर्देश दिए हैं.

राजधानी रांची में 60 लाख से ज्यादा की रकम से बना सूबे के सबसे बड़े अस्पताल (Hospital) का शवगृह 60 दिन भी नहीं चला.

  • Share this:
रांची. झारखंड की राजधानी रांची में 60 लाख से ज्यादा की रकम से बना सूबे के सबसे बड़े रिम्‍स अस्‍पताल (Rajendra Institute of Medical Sciences) का शवगृह 60 दिन भी नहीं चला. अब स्थिति यह है कि कोरोनकाल में जब संदिग्धों की रिपोर्ट आने में 5 से 7 दिन लग रहे हैं. इस बीच अगर संदिग्ध की मौत हो जाये तो उसके शव को सुरक्षित रखना अनिवार्य है. जबकि शवगृह (Mortuary) में एक दो दिन में ही डेडबॉडी बर्बाद हो रही है.

कोरोनकाल में शवगृह को...
कोरोनाकाल में जब संदिग्धों की रिपोर्ट आने में काफी समय लग जाता है, तो ऐसे में डेडबॉडी को रिपोर्ट आने तक शवगृह में रखा जाता है, लेकिन राज्य के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स का शवगृह पूरी तरह खराब है. जबकि 50 शव को महीनों सुरक्षित रखने के दावे के साथ इसे बनाया गया था. यही नहीं, इसी साल फरवरी-मार्च में ट्रायल के बाद रिम्स ने इसे शुरू किया था, लेकिन चंद महीनों में ही यह इस कदर खराब हो गया कि एक-दो दिन में ही शव खराब होने लगता है.

अधीक्षक बना रहे हैं AMC का बहाना
अब जब न्‍यूज़ 18 ने इस खराब पड़े शवगृह में रखे जा रहे शव की अमानवीय स्थिति पर रिम्स के अधीक्षक डॉ. विवेक कश्यप से सवाल किया तो उनका जवाब था कि शवगृह को एनुअल मेंटनेस कॉस्ट (AMC) नहीं दिए जाने से यह समस्या हुई है. हालांकि शवगृह की बिजली सप्लाई से लेकर एग्जॉस्ट फैन तक नहीं होने के चलते अंदर का तापमान कम ही नहीं होता और डेडबॉडी डिकॉम्पोज होने लगती है. अगर आधीक्षक की मानें तो 2-3 दिन में इसे ठीक करा लिया जाएगा.



स्वास्थ्यमंत्री ने दिए निर्देश
शव को सुरक्षित नहीं रख पाना न सिर्फ अमानवीय है बल्कि कानूनी रूप से भी गलत है. यही नहीं, कई पुलिस अनुसंधान में इसकी जरूरत होती है, लेकिन ऐसे में रिम्स प्रबंधन की शवगृह के प्रति लापरवाही सामने आयी है. जबकि इसको लेकर स्वास्थ्य मंत्री ने रिम्स शासी परिषद के सदस्य डॉ.आर पी श्रीवास्तव को निर्देश दिया कि जल्द से जल्द शवगृह को ठीक करा दिया जाए.

ये भी पढ़ें

गोल्ड मेडलिस्ट तीरंदाज घर चलाने को बेच रहे मुर्गा, पानी के लिए खोद रहे कुआं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज