अपना शहर चुनें

States

RIMS: नर्स ने मरीज को दो बार लगा दिया ब्लड प्रेशर लो करने का इंजेक्शन, हुई मौत

ब्रेन हेमरेज होने के बाद महिला ऑपरेशन किया गया था.
ब्रेन हेमरेज होने के बाद महिला ऑपरेशन किया गया था.

सत्यजीत ने बताया कि 7.30 बजे नर्स राउंड पर आई तो फिर से उसने बीपी लो करने के लिए इंजेक्शन लिख दिया. सुबह 8 बजे इंजेक्शन देने के बाद मां की हालत बिगड़ने लगी और सुबह 10.45 बजे उनकी मौत हो गई.

  • Share this:
रांची. झारखंड (Jharkhand) की राजधानी रांची (Ranchi) के रिम्स अस्पताल में (RIMS Hospital) भर्ती धुर्वा इलाके की पूनम देवी की गुरुवार काे माैत हाे गई. महिला के पुत्र सत्यजीत ने डॉक्टरों पर इलाज के दौरान लापरवाही बरतने का आराेप लगाया है. सत्यजीत का कहना है कि नर्स ने ब्लड प्रेशर लाे करने के लिए एक ही इंजेक्शन को दाे बार लगा दिया था, जिससे उसकी मां की माैत हाे गई.

ब्रेन हेमरेज के बाद हुआ था ऑपरेशन

सत्यजीत की मानें तो उसकी मां का साेमवार काे ब्रेन हेमरेज (brain haemorrhage) होने के बाद ऑपरेशन किया गया था. अगले दिन उन्हें गुरुवार को सुबह करीब 4 बजे हाेश आया. इस दौरान मरीज का बीपी पहले हाई हुआ, इसके बाद अपने आप लाे हाेने लगा जिससे उनकी तबीयत बिगड़ने लगी.



सत्यजीत ने कहा कि मां की बिगड़ती हालत को देख उसके पिता नर्स काे बुलाने के लिए चार बार गए,  लेकिन नर्स नहीं आई. काफी परेशान हाेने के बाद वे एक डाॅक्टर काे बुलाकर लाए. डाॅक्टर ने मां काे इंजेक्शन दिया ताे कुछ देर के लिए स्थिति में सुधार हुआ, लेकिन सुबह करीब 7 बजे बीपी फिर से लो हो गया.
फिर से लिख दिया था लो ब्लड प्रेशर का इंजेक्शन

सत्यजीत ने बताया कि 7.30 बजे नर्स राउंड पर आई तो फिर से उसने बीपी लो करने के लिए इंजेक्शन लिख दिया. इंजेक्शन खरीदकर लाने के बाद सुबह 8 बजे नर्स आई और मां को इंजेक्शन लगा दिया. इससे मां की हालत बिगड़ने लगी और सुबह 10.45 बजे उनकी मौत हो गई.

डाॅक्टर बाेले- नहीं हुई लापरवाही

इधर, रिम्स के न्यूराे सर्जन डाॅ. सीबी सहाय की मानें तो मरीज काे हाइपरटेंशन (Hypertension) की वजह से ब्रेन हेमरेज हुआ था. उन्होंने कहा कि ब्रेन में बड़ा सा क्लाॅट था. ऑपरेशन के बाद जब बीपी बढ़ने लगा ताे उसे कम करने के लिए दवा दी गई थी. इसके बाद भी बीपी कंट्राेल नहीं हुआ ताे फिर से दवा दी गई. डॉक्टर ने इलाज में लापरवाही बरतने के आरोप का खंडन करते हुए कहा कि मरीज की पहले से ही खून की नली फटी हुई थी, जिससे स्थिति खराब हाे गई थी.

ये भी पढ़ें:- घर से बाहर खेलने गये बच्चे की निर्माणाधीन मकान के सेप्टिक टैंक में मिली लाश

नौकरी देने में कीर्तिमान, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज हुआ झारखंड का नाम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज