Home /News /jharkhand /

झारखंड विधानसभा में नमाज के लिए कमरा: VHP का ऐलान- फैसला पलटने तक चुप नहीं बैठेंगे

झारखंड विधानसभा में नमाज के लिए कमरा: VHP का ऐलान- फैसला पलटने तक चुप नहीं बैठेंगे

Jharkhand News: झारखंड विधानसभा में नमाज के लिए कमरा अलॉट करने पर विवाद हो गया है. विश्‍व हिन्‍दू परिषद के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता विनोद बंसल ने आंदोलन छेड़ने की बात कही है. (न्‍यूज 18)

Jharkhand News: झारखंड विधानसभा में नमाज के लिए कमरा अलॉट करने पर विवाद हो गया है. विश्‍व हिन्‍दू परिषद के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता विनोद बंसल ने आंदोलन छेड़ने की बात कही है. (न्‍यूज 18)

Namaz Room in Jharkhand Assembly: झारखंड विधानसभा में नमाज रूम आवंटित करने को लेकर विवाद गहरा गया है. विश्‍व हिन्‍दू परिषद ने फैसले के पलटने तक विरोध-प्रदर्शन का ऐलान किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :

रांची. विश्व हिंदू परिषद ने झारखंड विधानसभा में एक कमरा नमाज के लिए दिए जाने के फैसले का विरोध किया है. वीएचपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने न्यूज 18 से बात करते हुए कहा कि झारखंड विधानसभा में नमाज पढ़ने के लिए एक कमरा (Namaz Room in Jharkhand Assembly) देना गलत है. यह एक कमरा नहीं दिया है, बल्कि एक मस्जिद दे दी है. विनोद बंसल ने आगे कहा कि इस्लाम के मानने वाले कुछ लोग कहते हैं कि जहां एक बार नमाज हो जाती है वह परमानेंट मस्जिद बन जाती है और मस्जिद अल्लाह का घर होता है और वह हमेशा रहता है. इसका मतलब विधानसभा अध्यक्ष (Jharkhand Assembly Speaker) को संभवत: यह पता है. यह विधानसभा नहीं, बल्कि मस्जिद रहेगी. विनोद बंसल ने स्‍पष्‍ट किया कि इस फैसले के पलटने तक वे लोग चुप नहीं बैठेंगे.

विनोद बंसल ने सवाल किया कि देश के अंदर कहीं भी इस तरह का प्रावधान नहीं है. यहां तक कि जम्मू-कश्मीर में भी ऐसा नहीं है, जबकि वहां सर्वाधिक मुस्लिम विधायक थे. ऐसे में झारखंड विधानसभा में मात्र 4 विधायकों के लिए आप पूरा कमरा खोल रहे हैं, पूरा मस्जिद बना रहे हैं, यह तर्कसंगत नहीं है. उन्होंने कहा कि यह न ही लोकतांत्रिक है और न ही संवैधानिक.

विनोद बंसल ने कहा कि उन बातों से भी वीएचपी इत्तेफाक नहीं रहती रखती है, जिसमें कुछ लोग विधानसभा में मंदिर बनाने की भी बात कर रहे हैं. वीएचपी प्रवक्ता का कहना है कि हमारे 33 करोड़ देवी-देवता हैं. कितनों के मंदिर बनाओगे . इसके अलावा आपको जैन और बौद्ध मंदिर बनाना पड़ेगा. साथ ही वाल्मीकि मंदिर और आर्य समाज मंदिर भी बनाना पड़ेगा. फिर यह विधानसभा नहीं रहेगी, बल्कि मंदिर ही हो जाएगी. वीएचपी ने तंज कसते हुए कहा कि झारखंड की हेमंत सरकार के सभी मंत्रियों को एक तख्ती लटकाकर विधानसभा जाना चाहिए और कहना चाहिए कि हम कम्युनल हैं.

झारखंड विधानसभा में नमाज के लिए कमरा अलॉट, BJP ने मांगा हनुमान चालीसा पढ़ने को हॉल

वीएचपी के प्रवक्‍ता ने कहा कि जब से तालिबान का वर्चस्व बढ़ा है, कुछ लोग अति उत्साह में जिहादियों के सामने सरेंडर करने की नई परंपरा शुरू कर दी है. झारखंड में लव जिहाद, धर्मांतरण और वनवासी समाज के उत्पीड़न के मामले लगातार हो रहे हैं. यह सब ईसाई मिशनरियों और जिहादी तत्वों की तरफ से हो रहा है, जिस पर सरकार आंख मूंद लेती है. वहीं, विधानसभा में उनके लिए अलग से मस्जिद बना देती है.

वीएचपी प्रवक्ता ने कहा कि पहले से ही झारखंड के वनवासी ईसाई मिशनरियों के उत्पीड़न से पीड़ित रहे ,लेकिन अब जिहादियों के लिए जो प्रावधान किया है, इसके खिलाफ विश्व हिंदू परिषद और हिंदू समाज लगातार आंदोलन करेगा और इस फैसले को पलटने तक हम लोग चुप नहीं बैठेंगे. उन्‍होंने कहा कि इस मामले में विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल के लोगों की तरफ से हर जगह पुतला दहन और धरना प्रदर्शन किया जा रहा है. हम लोग इस सांप्रदायिक निर्णय पर विराम लगाने के लिए ज्ञापन भी दे रहे हैं.

वीएचपी ने झारखंड की हेमंत सरकार पर आरोप लगाया है कि इसका कम्युनल एजेंडा पहले से भी चलता रहा है. खासतौर से कोरोना काल में जब कोरोना योद्धा कोरोना से लड़ रहे थे, उस समय 5 महीने का वेतन उन्हें नहीं मिला. वे वेतन के लिए चिल्ला रहे थे, लेकिन ईदी लेने के लिए इस्लामिक जिहादियों के लिए सरकार ने 21 करोड़ रुपए तुरंत आवंटित कर दिए. इसी तरह कर्मचारी चयन आयोग में जब भाषा के चयन की बात आई तो संस्कृत को हटा दिया. वहां की कई स्थानीय भाषाओं को हटा दिया, लेकिन उर्दू के साथ वही प्रेम! वीएचपी प्रवक्ता विनोद बंसल ने झारखंड की सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अब प्रदेश में यह सब नहीं चलेगा.

Tags: Bihar Jharkhand News, VHP

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर