होम /न्यूज /झारखंड /Bank Fraud Case: 75 करोड़ के बैंक धोखाधड़ी मामले में सरावागी बिल्‍डर्स के 9 ठिकानों पर ED के छापे

Bank Fraud Case: 75 करोड़ के बैंक धोखाधड़ी मामले में सरावागी बिल्‍डर्स के 9 ठिकानों पर ED के छापे

ED Raid: प्रवर्तन निदेशालय की टीम ने सरावागी बिल्‍डर्स के 9 ठिकानों पर छापे मारे. (सांकेतिक तस्‍वीर)

ED Raid: प्रवर्तन निदेशालय की टीम ने सरावागी बिल्‍डर्स के 9 ठिकानों पर छापे मारे. (सांकेतिक तस्‍वीर)

75 Crore Loan Default Case: प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate-ED) की टीम ने सरावागी बिल्‍डर एंड डेवलपर्स के 9 ...अधिक पढ़ें

रांची. प्रवर्तन निदेशालय की टीम ने बुधवार को झारखंड की राजधानी रांची में मशहूर बिल्‍डर ग्रुप सरावागी बिल्‍डर्स एंड डेवलपर्स के ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापे मारे. इस दौरान ED (Enforcement Directorate) की टीम ने बड़ी मात्रा में नकदी और कुछ महत्‍वपूर्ण दस्‍तावेज बरामद किए हैं. ईडी की ओर से ये छापे 75 करोड़ रुपये के बैंक लोन धोखाधड़ी के मामले में मारे गए. बिल्‍डर ग्रुप ने 3 बैंकों से 75 करोड़ रुपये का लोन लिया था. बाद में यह कर्ज NPA हो गया था. ईडी ने इसी सिलसिले में छापे मारे हैं. जांच के बाद इस मामले में बड़ा खुलासा होने की बात कही जा रही है.

ED की टीम ने मेन रोड, कांके रोड, रातु रोड समेत सरावागी बिल्‍डर के कुल 9 ठिकानों पर एक साथ दबिश दी. मेन रोड स्थित अपार्टमेंट में रहने वाले बिल्‍डर ग्रुप के पार्टनर संतोष जैन के फ्लैट से ईडी की टीम ने 3 करोड़ कैश बरामद किए हैं. वहीं, कंपनी के एक अन्‍य पार्टनर गौतम मोदी के आवास से 41 लाख रुपये मिले हैं. इस तरह ईडी ने कुल 3.41 करोड़ रुपये बरामद किए. इसके अलावा कुछ महत्‍वपूर्ण दस्‍तावेज बरामद करने की बात भी कही गई है. बता दें कि संतोष जैन और गौतम मोदी मेन रोड स्थित बेल एयर अपार्टमेंट में रहते हैं.

अंडर-15 राष्ट्रीय कुश्ती चैंपियनशिप का रांची में शानदार आगाज, पहले दिन हरियाणा ने जीते 6 गोल्ड

 मिले कई महत्‍वपूर्ण दस्‍तावेज
ईडी ने एक अन्य पार्टनर आकाश अड़किया के दफ्तर की भी तलाशी ली, जहां से कई महत्वपूर्ण दस्तावेज जब्त किए गए हैं. जांच एजेंसी ने ज्ञान सरावगी के कांके रोड स्थित स्काई विला से भी कई महत्वपूर्ण दस्तावेज बरामद किए हैं. टीम ने किशोरगंज के समृद्धि स्क्वायर स्थित सरावगी बिल्डर्स एंड डेवलपर्स के कार्यालय की भी तलाशी ली. बिल्डर ग्रुप के सीए अनीश अग्रवाल के एसजी एग्‍जोटिका (लालपुर स्थित फ्लैट), और सुभाष मोदी के पलाश अपार्टमेंट की भी तलाशी ली. एजेंसी को यहां से बड़ी मात्रा में जरूरी कागजात मिले हैं. प्रवर्तन निदेशालय की टीम अब इन दस्‍तावेजों की जांच में जुटी है.

CBI भी दर्ज कर चुकी है केस
जानकारी के मुताबिक, सरावगी बिल्डर्स के अमित सरावगी और उनके चाचा ज्ञान सरावगी ने मिलकर बैंक ऑफ इंडिया, यूको बैंक और यूनाइटेड बैंक से लोन लिया था. तीनों बैंकों से लिया गया 75 करोड़ रुपये का लोन एनपीए हो गया था. इस मामले में सीबीआई ने वर्ष 2018 में एफआईआर दर्ज की थी. बाद में सीबीआई द्वारा दर्ज एफआईआर के आधार पर ही वर्ष 2019 में ईडी ने मनीलॉन्ड्रिंग के तहत केस दर्ज किया था. इसके बाद से ईडी भी मामले की जांच कर रही है. यह छापेमारी उसी जांच के सिलसिले में की गई है.

Tags: Bank fraud, Enforcement directorate

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें