• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • झारखंड के संताली लेखक चंद्रमोहन किस्कू को मिला साहित्य अकादमी पुरस्कार

झारखंड के संताली लेखक चंद्रमोहन किस्कू को मिला साहित्य अकादमी पुरस्कार

चंद्रमोहन किस्कू चाकूलिया में रेलवे में पोस्टेड हैं.

चंद्रमोहन किस्कू चाकूलिया में रेलवे में पोस्टेड हैं.

Sahitya Akademi Award: चाकुलिया के रहने वाले चंद्रमोहन किस्कू के नाम की घोषणा साहित्य अकादमी अनुवाद पुरस्कार के लिए की गई. चंद्रमोहन किस्कू ने महाश्वेता देवी की बांग्ला उपन्यास 'सिदो कान्हू राखी' का संताली अनुवाद किया.

  • Share this:

रांची. झारखंड के संताली लेखक चंद्रमोहन किस्कू को साहित्य अकादमी पुरस्कार (Sahitya Akademi Award) मिला है. चाकुलिया के रहने वाले चंद्रमोहन किस्कू के नाम की घोषणा साहित्य अकादमी अनुवाद पुरस्कार के लिए की गई. चंद्रमोहन किस्कू ने महाश्वेता देवी की बांग्ला उपन्यास ‘सिदो कान्हू राखी’ का संताली अनुवाद ‘सिद्धू कानू पीके नाग होते’ पुस्तक के रूप में किया. इसके लिए उन्हें वर्ष 2020 का अनुवाद पुरस्कार देने की घोषणा की गई.

39 वर्षीय लेखक चंद्रमोहन फिलहाल चाकुलिया रेलवे स्टेशन पर टेलीकॉम मेंटेनेंस विभाग में कार्यरत हैं. पुरस्कार मिलने से चंद्रमोहन का पूरा परिवार काफी खुश है. चंद्रमोहन ने बताया कि उनकी बचपन की पढ़ाई चाकुलिया प्रखंड अंतर्गत बड़ी कानपुर स्कूल में हुई. यहीं उनका ननिहाल है. उनके बड़े नाना दमन हांसदा भी लेखक थे. उनकी अपनी पुस्तकालय थी. इसी कारण बचपन से ही चंद्रमोहन को साहित्य के प्रति रुचि जगी. इंटर की पढ़ाई घाटशिला कॉलेज से पूरी करने के बाद टाटा टेल्को से इन्होंने अप्रेंटिस किया. वर्ष 2005 में इन्हें नौकरी मिल गई.

चंद्रमोहन किस्कू की प्रकाशित पुस्तकें (हिंदी में)-  (1) सबरनाखा (2) फूलों की खेती (3) एक आदिवासी लड़की (4) महुआ चुनती आदिवासी लड़की (5) प्रेम के गीत (सभी कविता संग्रह)(6) उसके जाने के बाद (संताली से हिंदी अनुवाद मूल कवि श्याम सी टुडू)  (7) मुर्गा पाड़ा तथा अन्य कविताएं ( संताली से हिंदी अनुवाद मूल कवि आनपा मार्डी )

संताली में- (1)मुलूज लाँदा ( कविता संग्रह ) (2) फेसबुक (कहानी संग्रह ) (3)आंगरा (मूल हिंदी कविता संग्रह आंगोर का संताली अनुवाद) (4)सिदू कान्हू तिकिनाग होहोते (मूल बांग्ला उपन्यास सिदू कान्हुर डाके का संताली अनुवाद) (5)बिर बुरु रेयाग आईदारी ( मूल बांग्ला उपन्यास अरोन्येर अधिकार का संताली अनुवाद) (6) काहू को आर कालापानी (मूल हिंदी कहानी संग्रह कव्वे और कालापानी का संताली अनुवाद)

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज