रांची रिनपास : 14 साल से वनवास में है निदेशक पद, सरकार तलाश नहीं पाई कोई योग्य कैंडिडेट

बीते 14 साल से रांची के रिनपास में निदेशक की नियुक्ति नहीं हुई.

रिनपास में निदेशक का पद जुलाई 2007 से रिक्त है. जुलाई में ब्रिगेडियर पीके चक्रवर्ती के रिटायर होने के बाद से यह प्रभार में ही चल रहा है. पिछले 6 साल से डॉ सुभाष सोरेन संस्थान के निदेशक के प्रभार में हैं, जबकि नियमतः अस्थायी चयन 5 साल के लिए होता है.

  • Share this:
रांची. झारखंड की राजधानी रांची का रिनपास फिलहाल अपनी प्रतिष्ठा बचाने में लगा हुआ है. रिनपास में डॉक्टर व स्टाफ की घोर कमी है. हॉस्पिटल के 600 मरीजों को सिर्फ 8 मनोचिकित्सक और 4 पीजी डॉक्टर संभाल रहे है. अप्रैल 1925 में इसकी स्थापना रांची के कांके में हुई थी. अस्पताल के सौ वर्ष पूरे होने को हैं. समय के साथ-साथ इस अस्पताल ने काफी प्रसिद्धि हासिल की थी. झारखंड, बिहार उत्तर प्रदेश समेत देश भर से मानसिक रोगी इस अस्पताल में अपना इलाज कराने आते रहे हैं.

2009 में रिनपास (रांची न्यूरो-मनोचिकित्सा और सहयोगी विज्ञान संस्थान) के निदेशक की नियुक्ति के लिए राज्यपाल के आदेश से एक कमेटी का गठन हुआ था. बाद में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने चुपके से इसमें बदलाव कर दिया. जबकि नियमानुसार, कैबिनेट की अनुमति से ही इसमें बदलाव हो सकता था या फिर मुख्यमंत्री से घटनोत्तर स्वीकृति लेनी थी. लेकिन ऐसा कुछ नहीं किया गया. इसका असर ये हुआ कि झाररखंड के प्रतिष्ठित संस्थान रिनपास को निदेशक नहीं मिल रहे हैं. बार-बार विज्ञापन निकालना पड़ रहा है. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की इस लापरवाही के बाद कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं. जिन दो सदस्यों को हटाया गया है, उनमें विकास आयुक्त और निमहांस निदेशक शामिल हैं. निमहांस देश का एक बड़ा संस्थान है, जहां मनोरोगियों का इलाज होता है. रिनपास में भी मनोरोगियों का इलाज होता है. इस वजह से निमहांस के निदेशक को कमेटी में शामिल किया गया था. इन दोनों के नहीं होने से स्वास्थ्य विभाग का वर्चस्व हो जाता और वे निदेशक के पद पर अपने खास व्यक्ति को बहाल कर सकते थे.

डॉ सुभाष सोरेन संस्थान के निदेशक के प्रभार में 6 साल से हैं, जबकि निदेशक के पद पर अस्थायी चयन 5 साल के लिए होता है. रिनपास में निदेशक का पद जुलाई 2007 से रिक्त है. जुलाई में ब्रिगेडियर पीके चक्रवर्ती के रिटायर होने के बाद से यह प्रभार में ही चल रहा है. इस दौरान आधा दर्जन से अधिक चिकित्सकों को निदेशक का प्रभार दिया जा चुका है. इसमें कई अधिकारी रिम्स के भी हैं. निदेशक का प्रभार देने के मामले की निगरानी जांच तक हुई है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.