Home /News /jharkhand /

stone chips crisis may come in jharkhand from april 1 as 241 stone quarries to get lock in jharkhand bruk

झारखंड में 1 अप्रैल से छर्री-गिट्टी मिलने में होगी दिक्कत! 241 पत्थर खदानों में लटकने वाले हैं ताले

Jharkhand News: झारखंड में एक अप्रैल से गिट्टी मिलने में दिक्कत हो सकती है.

Jharkhand News: झारखंड में एक अप्रैल से गिट्टी मिलने में दिक्कत हो सकती है.

Jharkhand News: अगर आप झारखंड के किसी शहर में घर-मकान निर्माण कार्य की योजना बना रहे हैं तो यह खबर आपके लिए काम की हो सकती है. दरअसल झारखंड में 1 अप्रैल से निर्माण कार्य में इस्तेमाल होने वाली छर्री-गिट्टी मिलने में दिक्कत हो सकती है. ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्यों कि झारखंड में 31 मार्च 2022 को 241 पत्थर खदानों की लीज अवधि समाप्त हो रही है.

अधिक पढ़ें ...

रांची. अगर आप झारखंड के किसी शहर में घर-मकान निर्माण कार्य की योजना बना रहे हैं तो यह खबर आपके लिए काम की हो सकती है. दरअसल झारखंड में 1 अप्रैल से निर्माण कार्य में इस्तेमाल होने वाली छर्री-गिट्टी मिलने में दिक्कत हो सकती है. ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्यों कि झारखंड में 31 मार्च 2022 को 241 पत्थर खदानों की लीज अवधि समाप्त हो रही है. ऐसे में 1 अप्रैल 2022 को इन खदानों में ताले लटक जाएंगे. इन 241 पत्थर खदानों से प्रति दिन औसतन 32 हजार 322 टन पत्थर का खनन होता है. इस वजह से राज्य में छर्री-गिट्टी मिलने में थोड़ी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है.
बता दें, झारखंड में पत्थर की करीब 400 खदानें हैं. ऐसे में एक साथ 60 फीसद खदानों की लीज अवधि समाप्त होने से प्रदेश में छर्री-गिट्टी के स्टॉक पर असर पड़ सकता है. दरअसल, झारखंड में लौह अयस्क के साथ-साथ पत्थर खदानों की लीज अवधि 31 मार्च 2020 को समाप्त हो गई थी. सरकार ने लौह अयस्क खदानों को 31 मार्च 2020 में ही बंद कर दिया था. वहीं, राज्य की 241 पत्थर खदानों को कोरोना महामारी के चलते दो साल का अवधि विस्तार दे दिया था. लीज अवधि समाप्त होने के बाद इन पत्थर खदानों में खनन पर पूर्णत: प्रतिबंध लग जाएगी. हालांकि सरकार सभी पत्थर खदानों की नए सिरे से ई-नीलामी करेगी.

जानें किन इलाकों में होगा असर
बताया जाता है कि झारखंड के कोल्हान क्षेत्र में सबसे ज्यादा गिट्टी या पत्थर खदानें पूर्वी सिंहभूम जिला में हैं. जानकारी के अनुसार यहां 19 खदानों की लीज 31 मार्च 2022 को समाप्त हो जाएगी. इसी तरह सरायकेला जिला में 5 और पश्चिम सिंहभूम जिले में 3 खदानों की लीज अवधि पूरी होने वाली है. पश्चिम सिंहभूम जिले में नोवामुंडी के सरबिल में संचालित क्वलिटी स्टोन, इटरबालजोड़ी में अजय कुमार व मनोहरपुर के मकरंडा में नारायणी संस की पत्थर खदान को 31 मार्च 2022 से खनन पर रोक लगाने का निर्देश दिया गया है.
जल्द शुरू होगी नीलामी
इस संबंध में रांची भूतत्व निदेशालय के निदेशक विजय कुमार ओझा का कहना है कि राज्य में 31 मार्च 2022 को जिन पत्थर खदानों की लीज समाप्त हो रही है, उन्हें अब ई-नीलामी के जरिए ही बेची जाएगी. इसके लिए खान एवं भूतत्व विभाग के अंतर्गत खान निदेशालय की ओर से मूल्यांकन व नीलामी के लिए एक समिति का गठन किया गया है. समिति संबंधित खदानों के नए ब्लाक तैयार कर बहुत जल्द नीलामी के लिए प्रेषित करेगी. जल्द ही नीलामी की प्रक्रिया को पूरा कर लिया जाएगा.

Tags: Jharkhand Government, Jharkhand News Live, Stone

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर