Home /News /jharkhand /

बांग्लादेशी लड़की अंजलि की कहानी: बदनाम गलियों से निकल कैसे बनी PLFI की राजदार?

बांग्लादेशी लड़की अंजलि की कहानी: बदनाम गलियों से निकल कैसे बनी PLFI की राजदार?

रांची पुलिस ने पीएलएफआई से साठगांठ के आरोप में बांग्लादेशी लड़की अंजलि समेत 4 लोगों को गिरफ्तार किया.

रांची पुलिस ने पीएलएफआई से साठगांठ के आरोप में बांग्लादेशी लड़की अंजलि समेत 4 लोगों को गिरफ्तार किया.

Ranchi News: रांची पुलिस की गिरफ्त में आई अंजलि उर्फ फातिमा बांग्लादेश की रहने वाली है. पिछले 7 सालों से वह दिल्ली में अंजलि के नाम से रह रही थी. पुलिस की पूछताछ में उसने बताया कि बांग्लादेश से दिल्ली आने के बाद वह जिस्मफरोशी के धंधे में लिप्त हो गई. इसी दरम्यान उसकी मुलाकात पीएलएफआई उग्रवादी निवेश से हुई. फिर धीरे-धीरे दोनों एक-दूसरे के करीब आ गये.

अधिक पढ़ें ...

रांची. झारखंड के उग्रवादी संगठन PLFI के अंतराष्ट्रीय कनेक्शन के राजदार रांची के रहने वाले निवेश के कई राज उसकी गर्लफ्रेंड अंजलि उर्फ कनिस फातिमा के सीने में दफन है. यही वजह है कि बांग्लादेशी युवती फातिमा से रांची पुलिस के अधिकारी लगातार पूछताछ कर रहे हैं. पुलिस को अंदेशा है कि फातिमा PLFI और निवेश के कई राज जानती है. और शायद यही वजह है कि पुलिस से भागता फिर रहा निवेश अपने मुश्किल वक्त में भी अपनी फातिमा को अकेले नहीं छोड़ा.

PLFI के हथियार सप्लायर और अंतराष्ट्रीय कनेक्शन की बीच की कड़ी को रांची पुलिस ने तोड़ दिया, लेकिन अब भी कई ऐसे पहलू हैं, जिसे लेकर पुलिस जद्दोजहद कर रही है. और इन्हीं पहेलियों में एक पहेली है कनिस फातिमा उर्फ अंजलि, जो निवेश की सबसे बड़ी राजदार है. और यही वजह है पुलिस बांग्लादेश की रहने वाली फातिमा से पूछताछ में जुटी है. ऐसा अंदेशा है कि वो हथियार जो अबतक PLFI उग्रवादियों के हाथों तक नहीं पहुंचे, उसे निवेश ने कहां छिपा रखा है और लेवी के पैसे का इन्वेस्टमेंट उसके द्वारा कहां किया गया है, पुलिस फातिमा से इसकी जानकारी लेने की कोशिश में जुटी हुई है. इसे सिलसिले में गुरुवार को फातिमा को धुर्वा थाना लाया गया, जहां वरीय अधिकारियों ने उससे लंबी पूछताछ की.

अंजलि उर्फ फातिमा बांग्लादेश के खुलना नामक इलाके की रहने वाली है. पिछले 7 सालों से फातिमा दिल्ली में अंजलि नाम से रह रही थी. पुलिस की पूछताछ में फातिमा ने यह बताया है कि बांग्लादेश से दिल्ली आने के बाद उसने अपना नाम अंजलि रख लिया था. और जिस्मफरोशी के धंधे में लिप्त थी. इसी दरम्यान उसकी मुलाकात निवेश से हुई. और धीरे-धीरे दोनों एक-दूसरे के करीब आ गये.

दरअसल निवेश को भी एक ऐसा राजदार चाहिए था, जो दिल्ली में रहकर उसकी अवैध कमाई को व्हाइट करने के काम की मॉनिटरिंग कर सके. इसके लिए बाकायदा निवेश उसे दिल्ली में सबकी नजरों के सामने पत्नी बनाकर रखे हुए था. हालांकि पुलिस को अबतक फातिमा का पासपोर्ट नहीं मिला है, जिसकी तलाश पुलिस कर रही है.

पुलिस की जांच में अबतक ये पता चला है कि लेवी के पैसो को निवेश अपने साथियों के साथ रियल एस्टेट और होटल के कारोबार में लगा रहा था. इस दौरान वह लाखों रुपए के लेन-देन भी एकसाथ किया करता था, वहीं इन्हीं पैसों से लग्जरी गाड़ियां भी खरीद रखा था. निवेश ने प्लान के तहत ही बीएमडब्ल्यू ,थार और दूसरी महंगी गाड़ियां खरीदी रखी थी, ताकि किसी को भी शक न हो. निवेश महंगे कार में फातिमा उर्फ अंजलि को बिठाकर पैसे एक शहर से दूसरे शहर भेजता था.

बता दें कि पीएलएफआई सुप्रीमो दिनेश गोप पर झारखंड पुलिस लगातार शिकंजा कस रही है. रांची पुलिस गुरुवार को उसके करीबी सहयोगी निवेश पोद्दार समेत चार लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. गिरफ्तार आरोपियों में निवेश पोद्दार, ध्रुव कुमार, शुभम पोद्दार और अंजलि उर्फ कनीस फातिमा शामिल हैं. रांची पुलिस की गिरफ्त में आयी फातिमाक बांग्लादेश की रहने वाली है.

Tags: Anti naxal operation, Jharkhand Police, Naxal terror, Ranchi news, Ranchi Police

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर