• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • Positive News: पैसों की कमी से पढ़ाई न छूटे, इसलिए अपने खर्च पर बच्‍चों का दाखिला करा रहे स्‍कूल के टीचर

Positive News: पैसों की कमी से पढ़ाई न छूटे, इसलिए अपने खर्च पर बच्‍चों का दाखिला करा रहे स्‍कूल के टीचर

Government School News: बालकृष्‍ण स्‍कूल के शिक्षकों ने आर्थिक तंगी के शिकार छात्रों का दाखिला अपने पैसे से करा रहे हैं. (न्‍यूज 18)

Government School News: बालकृष्‍ण स्‍कूल के शिक्षकों ने आर्थिक तंगी के शिकार छात्रों का दाखिला अपने पैसे से करा रहे हैं. (न्‍यूज 18)

Ranchi Teachers Set An Example: कोरोना महामारी के इस दौर में कई लोगों की नौकरियां चली गईं. कई लोगों के लिए तो रोजी-रोटी की जुगत तक मुश्किल हो गई है. इससे स्‍कूली छात्र भी प्रभावित हुए हैं. ऐसे छात्रों के लिए रांची में बालकृष्‍ण प्‍लस टू स्‍कूल के टीचर्स देवदूत बनकर सामने आए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

रांची. कोरोना महामारी ने जहां देश-दुनिया को हिला कर रख दिया, वहीं इस संकट के दौर में कई बेमिसाल बातें भी सामने आईं. महामारी के लंबे दौर ने न सिर्फ बड़ी संख्या में लोगों की जिंदगी छीन ली, बल्कि रोजी-रोजगार पर भी बड़ा प्रहार किया. हर जगह बड़े पैमाने पर लोगों की नौकरी गई, जिससे घर-परिवार का खर्चा चलाना भी मुश्किल हो गया. रोजी-रोटी के अलावा अन्य खर्च निकाल पाना मुसीबत बन गया. यहां तक कि बच्चों की स्‍कूल फीस भरना भी कई अभिभावकों के लिए मुश्किल हो गया. ऐसे दौर में भी निजी स्कूलों ने फीस से कोई समझौता नहीं किया. फीस न भर पाने पर बच्चों का नाम स्कूल से काट दिया गया या फिर उनको ऑनलाइन क्लास से वंचित कर दिया गया. ऐसे में बच्चों के साथ अभिभावक भी परेशान हो गए.

ऐसी विपदा के समय में बालकृष्ण स्कूल के शिक्षकों ने मिसाल पेश की है. रांची के बालकृष्ण प्लस टू स्कूल में पदस्‍थ शिक्षक अपने छात्रों के लिए देवदूत बनकर सामने आए. मिसाल पेश करते हुए यहां के शिक्षकों ने बच्चों का नामांकन खुद की जेब से पैसे देकर करवाने का फैसला किया. स्कूल के शिक्षकों ने इस साल नए सत्र में 9वीं कक्षा में अभी तक कुल 90 बच्चों का दाखिला खुद के पैसों से करवाया है. अब स्कूल प्रबंधन ने फ्री में एडमिशन की पहल की है.

बच्चों की पढ़ाई न छूटे, इसलिए की पहल
स्कूल की प्रिंसिपल दिव्या सिंह बताती हैं कि बच्चे आर्थिक तंगी की वजह से स्कूल न आएं यह दुखद होता है. इसी सोच के तहत कदम आगे बढ़ाया गया और निर्णय लिया गया कि इस वर्ष जितने भी बच्चे स्कूल में एडमिशन लेंगे, उनकी एडमिशन फीस सारे शिक्षक मिलकर चुकाएंगे. इससे छात्रों को ही नहीं, बल्कि उनके अभिभावकों को भी बड़ी राहत मिली है. अब इस स्‍कूल के किसी भी छात्र की पढ़ाई पैसों के चलते नहीं रुकेगी.

VIDEO: झारखंड के बुंडू में कांची नदी पर बना पुल जमींदोज, दर्जनों गांव का संपर्क टूटा

बच्चों के हित में सराहनीय कदम
बालकृष्ण स्कूल के शिक्षकों ने नामांकन के लिए आठवीं पास करने वाले बच्चों का व्हाट्सएप ग्रुप बनाया है और यहीं पर ऑनलाइन क्लास भी ले रहे हैं. बहरहाल एक तरफ जहां कोरोना काल में निजी स्कूलों द्वारा फीस के लिए बच्चों और अभिभावकों को परेशान किया जा रहा है, वहीं दूसरी तरफ रांची के इस सरकारी स्कूल ने बच्चों के हित में सराहनीय कदम उठाया है. यह अन्य स्कूलों के लिए एक मिसाल है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज