Home /News /jharkhand /

success story security guard umren cleared net in first attempt in ranchi nodaa

Success Story: सिक्योरिटी गार्ड ने अपने सपने जमीन पर उतारे, पहले अटेंप्ट में NET क्लियर

यही हैं मजबूत इरादे वाले सिक्योरिटी गार्ड उमेरन, जिन्होंने नेट क्वालिफाई किया.

यही हैं मजबूत इरादे वाले सिक्योरिटी गार्ड उमेरन, जिन्होंने नेट क्वालिफाई किया.

Inspirational Story of Umren: रांची के एक अपार्टमेंट में सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी करते हुए भी उमेरन ने अपने सपने को मरने नहीं दिया. गार्ड रूम में ही अपनी ड्यूटी के साथ-साथ पढ़ाई की और राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा-जेआरएफ क्रैक करने में कामयाब हुए. बता दें कि यह कामयाबी उन्होंने अपने पहले अटेंप्ट में ही हासिल कर ली है.

अधिक पढ़ें ...

रांची. ‘तू जिंदा है तो जिंदगी की जीत में यकीन कर, अगर कहीं है स्वर्ग तो उतार ला जमीन पर’ गीतकार शैलेंद्र के इस गीत को रांची के एक सिक्योरिटी गार्ड ने सही साबित कर दिखाया. उसने जिंदगी की जीत में यकीन किया और अपने ‘स्वर्ग’ को जमीन पर उतार लिया.

रांची के इस सिक्योरिटी गार्ड का नाम है उमरेन. इन्होंने रांची के एक अपार्टमेंट में गार्ड की नौकरी की, लेकिन अपने सपने को मरने नहीं दिया. गार्ड रूम में ही अपनी ड्यूटी के साथ-साथ पढ़ाई की और राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा-जेआरएफ क्रैक करने में कामयाब हुए. बता दें कि यह कामयाबी उन्होंने अपने पहले अटेंप्ट में ही हासिल कर ली है.

उमरेन बताते हैं कि गांव से आकर रांची में बसना बहुत मुश्किल भरा सफर रहा. एक अपार्टमेंट में गार्ड की नौकरी मिल गई और फिर वहीं पर एक छोटा-सा कमरा भी मिल गया. इसी कमरे में रहकर ड्यूटी भी की और पढ़ाई भी. तकलीफ काफी उठानी पड़ी, लेकिन डटा रहा. इस दौरान कई लोगों ने सपोर्ट किया तो कुछ लोगों ने ड्यूटी के दौरान पढ़ाई करता देख आपत्ति जताई और बुरा सलूक किया.

बता दें कि उमरेन ने सोनाहातू गांव में अपनी प्रारंभिक पढ़ाई पूरी की. वहीं से दसवीं और इंटर करने के बाद पीपीके कॉलेज बुंडू से स्नातक किया. इसके बाद पीजी करने के लिए रांची विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग में दाखिला लिया और उसी दौरान उन्होंने अपना खर्च निकालने के लिए रांची में गार्ड की जॉब भी की और दिहाड़ी मजदूरी भी की, लेकिन हर हाल में अपना पठन-पाठन जारी रखा.

कहने की जरूरत नहीं कि अपनी कोशिशों से उमरेन उन विद्यार्थियों के लिए रोल मॉडल बन गए हैं, जिनके पास सीमित संसाधन हैं और आर्थिक कठिनाई के कारण पढ़ाई छोड़ देते हैं. उमरेन जिस अपार्टमेंट में सिक्योरिटी गार्ड थे. उस अपार्टमेंट में कई शिक्षक रहते हैं. वे बताते हैं कि उमरेन में शुरु से ही अपने सपनों को पूरा करने की लगन थी. उमरेन को जब भी हमने देखा वह हमेशा कॉपी-किताब लेकर बैठा मिला.

Tags: Jharkhand news, Ranchi news, UGC-NET exam

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर