अपना शहर चुनें

States

सैफ अली खान की वेब सीरीज पर स्वामी की धमकी- आपत्तिजनक सीन नहीं हटाये तो झारखंड में भी होगा तांडव

वेब सीरीज तांडव पर देश के कई राज्यों में तांडव शुरू है.
वेब सीरीज तांडव पर देश के कई राज्यों में तांडव शुरू है.

स्वामी दिव्यानंद ने कहा कि तांडव वेब सीरीज (Tandav) में जिस प्रकार भगवान शिव को दर्शाया गया है, इससे कोई भी हिंदू आहत हो जाएगा.

  • Share this:
रांची. अभिनेता सैफ अली खान (Saif Ali Khan) की वेब सीरीज 'तांडव' (Tandav) का झारखंड में भी विरोध (Protest) शुरू हो गया है. स्वामी दिव्यानंद महाराज ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि इस सीरीज से आपत्तिजनक सीन नहीं हटाये गये तो राजधानी रांची में भी तांडव होगा.

स्वामी ने कहा कि फिल्मों के जरिये हिंदू सनातन संस्कृति का बार-बार मजाक उड़ाने की चेष्टा की जाती है. हिंदू पंडितों और साधु-संतों को कॉमेडी के रूप में प्रस्तुत किया जाता है. इतना ही नहीं हिंदू देवी-देवताओं का मूल स्वरूप बिगाड़ कर उनके रूप को परिवर्तित कर पेश किया जाता है. इससे हिंदू समाज आहत है.

स्वामी के मुताबिक तांडव वेब सीरीज में जिस प्रकार भगवान शिव को दर्शाया गया है, इससे कोई भी हिंदू आहत हो जायेगा. भगवान राम के बारे में भी गलत टिप्पणी की गई है, जबकि भगवान राम मर्यादा, सहनशीलता, सहिष्णुता, नीति और मर्यादा के प्रतिक हैं. सीरीज में देवाधिदेव महादेव के स्वरूप को बिगाड़ कर चेहरे के ऊपर क्रॉस चिन्ह लगाकर उनके परिधान को बुरी तरह बिगाड़ कर पेश किया गया है.



स्वामी दिव्यानंद ने वेब सीरीज तांडव से आपत्तिजनक सीन हटाने की मांग की है.
स्वामी दिव्यानंद ने वेब सीरीज तांडव से आपत्तिजनक सीन हटाने की मांग की है.

इन राज्यों में विरोध तेज 

बता दें कि हाल में रिलीज हुई तांडव वेब सीरीज पर कई राज्यों में हंगामा खड़ा हो गया है. बिहार, एमपी, यूपी और महाराष्ट्र में इसको लेकर जोरदार विरोध जारी है. इस बीच खबर ये है कि OTT पर परोसे जा रहे आपत्तिजनक कंटेंट को लेकर सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय अलर्ट हो गया है. OTT पर आपत्तिजनक कंटेंट और तांडव वेब सीरीज को लेकर मंत्रालय फैसला ले सकता है. तांडव वेब सीरीज पर जारी विवाद के बीच सोमवार को सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय में बैठक हुई. सराकर पहले ही साफ कर चुकी है कि OTT पर दिखाये जाने वाले फिल्म या कंटेट को लेकर सेल्फ रगुलेशन कोड बनाया जाए. अगर OTT प्लेटफार्म के लिए सेल्फ रेगुलेशन कोड नहीं बनाया जाता, तो फिर सरकार कोड बनाने पर विचार कर सकती है.

कौन हैं स्वामी दिव्यानंद?

बता दें कि स्वामी दिव्यानंद महाराज हिंदू धर्मगुरु के अलावा राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के अनुसांगिक संगठन भारत तिब्बत सहयोग मंच के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं. झारखंड में रेप की बढ़ती घटना पर उन्होंने हाल में झारखंड सरकार को आमरण अनशन की चेतावनी दी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज