तबरेज मॉब लिंचिंग मामले में उछला ओवैसी की पार्टी का नाम, धमकाने के आरोप

जिस गांव में तबरेज अंसारी की मॉब लिंचिंग हुई अब उस गांव की महिलाओं ने आरोप लगाया है कि 
कथित तौर पर AIMIM के लोगों ने उन्हें धमकाया है.

जिस गांव में तबरेज अंसारी की मॉब लिंचिंग हुई अब उस गांव की महिलाओं ने आरोप लगाया है कि कथित तौर पर AIMIM के लोगों ने उन्हें धमकाया है.

झारखंड में तबरेज अंसारी की मॉब लिंचिंग और मौत के मामले में अब एक नया मोड़ आ गया है. जिस गांव में तबरेज की मॉब लिंचिंग हुई, वहां की महिलाओं का आरोप है कि बीती रात कथित तौर पर AIMIM के लोगों ने आकर रेप, लूट और जान से मारने की धमकी दी है.

  • Share this:
झारखंड में तबरेज अंसारी की मॉब लिंचिंग और मौत के मामले में अब एक नया मोड़ आ गया है. जिस गांव में तबरेज की मॉब लिंचिंग हुई, वहां की महिलाओं का आरोप है कि बीती रात कथित तौर पर AIMIM के लोगों ने आकर रेप, लूट और जान से मारने की धमकी दी है. धातकीडीह नाम के इस गांव में तबरेज की हत्या के बाद से ही सन्नाटा पसरा हुआ है. गांव के पुरुष फरार हैं और महिलाएं डरी हुई हैं. महिलाओं ने सरायकेला थाने में शिकायत दर्ज कराई है कि बीती रात गांव में AIMIM झंडे लगी करीब 30 गाड़ियों से लोग धर्म विशेष के लोग आए थे, जिन्होंने बुरी तरह धमकाया.



क्या कहते हैं ग्राम प्रधान



धातकीडीह गांव के ग्राम प्रधान संतोष महतो ने न्यूज 18 को बताया कि चोरी करने के इरादे से घुसे तबरेज और उसके साथी उस समय भागने लगे, जब ग्रामीण आवाज सुनकर जाग गए. उसके साथी तो भागने में सफल रहे लेकिन झाड़ी में छिपने के बावजूद तबरेज पकड़ा गया. ग्रामीणों ने बताया कि तबरेज भागने के क्रम में गिर गया था.





ये है मामला
24 साल के तबरेज अंसारी जमशेदपुर से अपने गांव वापस लौट रहा था. उसी वक्त उन्हें घातकीडीह गांव में भीड़ ने चोरी के शक में घेर लिया. चोरी का आरोप लगाते हुए लोगों ने उसे पोल से बांध दिया और बुरी तरह पीटना शुरू कर दिया. पीड़ित युवक की कई घंटे तक पिटाई की गई. इसके बाद 18 जून को उसे पुलिस के हवाले किया गया. जिसके बाद तबरेज को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. जेल में तबरेज की हालत बिगड़ गई, जिसके बाद 22 जून को उसे बेहद खराब हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.



मुस्लिम नाम होने की वजह से भीड़ ने की पिटाई



तबरेज के परिजनों ने आरोप लगाया है कि मुस्लिम नाम होने की वजह से लोगों ने उसकी जमकर पिटाई की. भीड़ ने उससे 'जय श्री राम' और 'जय हनुमान' के बार-बार नारे लगवाए. उन्होंने तबरेज की हत्या करने वालों की गिरफ्तारी की मांग की.



(अन्नी अमृता की रिपोर्ट)



ये भी पढ़ें:



'चमकी' से जूझ रहा बिहार है स्वास्थ्य सेवाओं में फिसड्डी, नीति आयोग की रिपोर्ट में खुलासा



लीची नहीं AES का कुपोषण कनेक्शन: 289 में 61 बच्चे खाली पेट सोए थे!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज