योग शिक्षिका रफिया की शिकायत पर अब तेजी से होगी सुनवाई, मामले में कांग्रेस MLA हैं आरोपी
Ranchi News in Hindi

योग शिक्षिका रफिया की शिकायत पर अब तेजी से होगी सुनवाई, मामले में कांग्रेस MLA हैं आरोपी
पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी के साथ राफिया नाज. (फाइल फोटो)

मामले की अगली सुनवाई की तारीख नौ सितंबर निर्धारित की गयी है. उस दिन शिकायतकर्ता रफिया नाज (Yoga Teacher Ruffia Naz) का बयान शपथ-पत्र के माध्यम से दर्ज किये जाने की संभावना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 8, 2020, 7:41 AM IST
  • Share this:
रांची. झारखंड में जामताड़ा से कांग्रेस विधायक इरफान अंसारी (Congress MLA Irfan Ansari) के खिलाफ रांची की योग शिक्षिका रफिया नाज (Yoga Teacher Ruffia Naz) द्वारा दर्ज कराये गये मुकदमे को आवश्यक मामला मानकर तेजी से सुनवाई होगी. रांची की एक विशेष अदालत (Special Court) में सोमवार को मामले की सुनवाई हुई. सुनवाई के दौरान शिकायतकर्ता के अधिवक्ता ने अनुरोध किया कि इसे आवश्यक मामला मानकर तेजी से सुनवाई की जाए जिसे अदालत ने स्वीकार कर लिया.

इसके अलावा अधिवक्ता ने मामले में और दस्तावेज दाखिल करने के लिए समय की मांग की. विशेष न्यायाधीश दिनेश कुमार की अदालत ने इसके लिए दो दिनों का समय दिया. मामले की अगली सुनवाई की तारीख नौ सितंबर निर्धारित की गयी है. उस दिन शिकायतकर्ता रफिया नाज का बयान शपथ-पत्र के माध्यम से दर्ज किये जाने की संभावना है. रांची में डोरंडा निवासी योग शिक्षिका रफिया नाज ने विधायक इरफान अंसारी के खिलाफ मानहानि के साथ स्त्री लज्जा भंग करने, धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाने, उसके खिलाफ हिंसा को भड़काने सहित कई आरोप लगाते हुए रांची की निचली अदालत में 19 अगस्त को मुकदमा दर्ज कराया था.

राफिया नाज पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी के घर पर पहुंची थी
बता दें कि बीते अगस्त महीने में मशहूर योग शिक्षिका राफिया नाज पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी (Babulal Marandi) के आवास पर पहुंची थी और उसने अपनी और पूरे परिवार की जान पर खतरा बताया था.तब योग शिक्षिका राफिया नाज की सुरक्षा का मुद्दा एक बार फिर सुर्खियों में आ गया था. बस फर्क इतना है कि अपनी सुरक्षा को लेकर राफिया ने बीजेपी विधायक दल के नेता और पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी के मंच से सरकार और पुलिस प्रशासन के खिलाफ हल्ला बोला था. राफिया ने अपनी जान पर खतरा बताते हुए राज्य सरकार पर सुरक्षा वापस लेने और मुख्यमंत्री पर अपनी सुरक्षा को लेकर भेजे गए मेल की अनदेखी करने का भी आरोप लगाया था. दरअसल, बाबूलाल मरांडी के आवास पर पहुंचे राफिया नाज के पिता मोहम्मद ने भी राफिया समेत अपने पूरे परिवार की जान खतरे में बतायी और सरकार से सुरक्षा की मांग की थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज