पेट्रोल के बढ़ते दामों से परेशान 8वीं पास शख्स ने बनाई इलेक्ट्रॉनिक साइकिल, खासियत जान हो जाएंगे हैरान

8वीं पास शिरिष को बचपन से ही मैकेनिकल काम करने में मन लगता था.

Ranchi News: शिरिष ने करीब डेढ़ साल की मेहनत और आसपास से जुगाड़ किए गए संसाधनों की बदौलत एक बेहतरीन इलेक्ट्रॉनिक साइकिल बनाई है.

  • Share this:
रांची. हुनर वक्त का मोहताज नहीं होता. अगर आप में काबिलियत है तो आप वक्त को भी अपने अनुसार बदलने को मजबूर कर सकते हैं. रांची के रहने वाले आठवीं पास शिरिष ने अपने हुनर से काबिल इंजीनियरिंग ब्रेन को भी सोचने पर मजबूर कर दिया है.

रांची के हरमू बाजार में कल तक शिरिष बेक एक अनजाना और गुमनाम सा नाम था. लेकिन आदिवासी समाज से आने वाले 52 वर्षीय शिरिष आज लोगों के बीच चर्चा का मुद्दा बन चुके हैं. शिरिष ने करीब डेढ़ साल की मेहनत और आसपास से जुगाड़ किए गए संसाधनों की बदौलत एक बेहतरीन इलेक्ट्रॉनिक साइकिल बनाई है. दिखने में शिरिष की साइकिल भले ही मामूली लगती हो. लेकिन इसकी रफ्तार और खूबियां एक बाइक को भी टक्कर देने का माद्दा रखती है. बैटरी से चलने वाली शिरीष की साइकिल पूरी तरह चार्ज होने पर करीब 35 से 40 किलोमीटर तक चलती है.

दरअसल इस खास साइकिल को बनाने की पीछे का मकसद पेट्रोल की लगातार आसमान छूती कीमतों से बचना है. साथ ही बाइक से चलने पर सिग्नल टूटने की वजह से कई बार फाइन भी भरना पड़ता था. ऐसे में गरीब परिवार से आने वाले शिरिष के दिमाग में बाइक को छोड़कर इलेक्ट्रॉनिक साइकिल बनाने का आइडिया आया.

शिरिष की इलेक्ट्रॉनिक साइकिल में सामान्य साइकिल की तरह ही दोनों हैंडल में ब्रेक और बाइक की तरह ही एक्सीलेटर का इस्तेमाल किया गया है. इस इलेक्ट्रॉनिक साइकिल में मोटर पिछले पहिए में लगाया गया है. लेकिन यह देखने में बिल्कुल नजर नहीं आता. वहीं साइकिल के अगले हिस्से की पाइप पर बड़ी सी बैटरी लगाई गई है. कुल मिलाकर इस साइकिल पर बैठने और चलाने से पहले आपको एक बाइक की तरह ही सावधानी बरतनी होगी. वरना इस साइकिल को मामूली समझने पर आप अपना संतुलन खो सकते हैं.

शिरिष फिलहाल अपनी खास साइकिल के चार्जिंग सिस्टम में और सुधार करने की कोशिश में जुटे हैं. जिससे इलेक्ट्रॉनिक साइकिल चलने के दौरान ही दोबारा चार्ज हो सके. शिरीष की माने तो महज 20 हजार की लागत में यह इलेक्ट्रॉनिक साइकिल तैयार की जा सकती है.

शिरिष को बचपन से ही मैकेनिकल काम में काफी मन लगता था. हालांकि गरीबी की वजह से वह आठवीं के बाद पढ़ाई नहीं कर सके. लेकिन उन्होंने परिवार की हर जिम्मेदारी को मजबूती और ईमानदारी के साथ उठाया. और आज वह इलेक्ट्रॉनिक साइकिल बनाकर सुर्खियों में हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.