लाइव टीवी

रिनपास में 5 साल से भर्ती हैं दो बांग्लादेशी नागरिक, राज्य सरकार भेजेगी वापस
Ranchi News in Hindi

Naween Jha | News18 Jharkhand
Updated: February 13, 2020, 7:32 PM IST
रिनपास में 5 साल से भर्ती हैं दो बांग्लादेशी नागरिक, राज्य सरकार भेजेगी वापस
बांग्लादेश के रहने वाले आलमगीर हुसैन ने बताया कि वह भटकते हुए कैसे भारत आ गया, उसे पता नहीं है. बाद में कोडरमा पुलिस ने उसे रिनपास में भर्ती करा दिया.

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि रिनपास में कुछ मरीज ऐसे हैं, जिन्हें परिवार के लोगों ने यहां जबरदस्ती डाल दिया है. कई ऐसे हैं, जो पूरी तरह से ठीक हो गये हैं, लेकिन परिवार के लोग उन्हें नहीं ले जाना चाहते. ऐसे लोगों को घर भेजा जाएगा.

  • Share this:
रांची. स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता (Banna Gupta) ने गुरुवार को रिनपास (RINPAS) का औचक निरीक्षण किया. इस दौरान उन्होंने वार्ड से लेकर किचेन तक का जायजा लिया. मंत्री ने परिसर में बैठे मानसिक रोगियों से बातचीत भी की. दो बांग्लादेशी नागरिकों (Bangladeshi Citizens) पर उनकी नजर पड़ी. दोनों पांच साल पहले भटकते हुए भारत आ गये था. बाद में कोडरमा पुलिस (Kodarma Police) ने उन्हें रिनपास में भर्ती करा दिया. स्वास्थ्य मंत्री ने दोनों को जल्द वापस अपने देश भेजने का भरोसा दिलाया.

बांग्लादेश के रहने वाले आलमगीर हुसैन ने बताया कि वह भटकते हुए कैसे भारत आ गया, उसे पता नहीं है. बाद में कोडरमा पुलिस ने उसे यहां लाकर भर्ती करा दिया. अब वह घर वापस जाना चाहता है. उसे कोई परेशानी नहीं है.

मंत्री ने पाया कि कई मरीज ठीक होने के बावजूद रिनपास में पड़े हुए हैं. ऐसे लोगों को उन्होंने उनके गांव भेजने का निर्देश निदेशक को दिया. साढ़े तीन सौ एकड़ में फैले कैंपस में साफ-सफाई की व्यवस्था देखकर मंत्री खुश हुए. और मेन पावर की कमी को जल्द दूर करने का भरोसा दिलाया.

रिनपास में मानसिक रोगियों से बात करते स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता
रिनपास में मानसिक रोगियों से बात करते स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता


ठीक हो चुके लोगों को भेजा जाएगा घर 

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि यहां साफ सफाई की व्यवस्था अच्छी है. मेन पावर की कमी है. कुछ मरीज ऐसे हैं, जिन्हें परिवार के लोगों ने यहां जबरदस्ती डाल दिया है. कई ऐसे हैं, जो पूरी तरह से ठीक हो गये हैं, लेकिन परिवार के लोग उन्हें नहीं ले जाना चाहते. ऐसे लोगों को घर भेजा जाएगा. इसके लिए रिनपास के डॉक्टरों की कमिटी बनाई जाएगी. साथ ही अन्य सामाजिक संस्थाओं की भी मदद ली जाएगी. बांग्लादेश के दो मरीज पांच साल से यहां पर हैं. राज्य सरकार इनको वापस भेजने के लिए केन्द्र सरकार को चिट्ठी लिखेगी.

मंत्री जब रिनपास पहुंचे, तो निदेशक से लेकर कई डॉक्टर मौजूद नहीं थे. लेकिन जानकारी मिलने पर निदेशक डॉ. सुभाष सोरेन तत्काल पहुंचे. उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री मानसिक रोगियों के इलाज में मानवीय पहलू को ध्यान में रखना के निर्देश दिये हैं. वैसे रिनपास में मरीजों की साफ-सफाई, खान-पान और दवाई का खास ख्याल रखा जाता है.इससे पहले करमटोली स्थित रांची प्रेस क्‍लब में स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने प्रेस क्लब द्वारा संचालित एंबुलेंस सेवा का शुभारंभ किया.

ये भी पढ़ें- बीजेपी में वापसी के बाद नेता प्रतिपक्ष बन सकते हैं बाबूलाल मरांडी 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 13, 2020, 7:31 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर