सवर्ण आरक्षण: केन्द्र के फैसले पर झारखंड के विपक्षी नेताओं ने दीं ये प्रतिक्रियाएं

नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन
नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन

हेमंत सोरेन ने आदिवासियों के लिए 26 से बढ़ाकर 28 प्रतिशत तथा अल्पसंख्यक समुदाय को 5 प्रतिशत आरक्षण देने की मांग की.

  • Share this:
आर्थिक रूप से पिछड़े सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने के केन्द्र सरकार के फैसले को झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री व वर्तमान नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन ने नया जुमला करार दिया है. दुमका में उन्होंने कहा कि राफेल के मुद्दे पर घिरी मोदी सरकार लोगों का ध्यान भटकाने के लिए इस तरह के फैसले ले रही है. जबकि इसका लाभ सवर्णों को नहीं मिलने वाला है. उन्होंने आदिवासियों के लिए 26 से बढ़ाकर 28 प्रतिशत और अल्पसंख्यक समुदाय को 5 प्रतिशत आरक्षण देने की मांग की.

जेवीएम सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने कहा कि बीजेपी सरकार बहुत चीजों मुहर लगाती रहती है. लेकिन वे जमीन पर नहीं उतरते. वहीं झारखंड कांग्रेस प्रवक्ता शमशेर आलम ने कहा कि केंद्र सरकार का यह निर्णय तीन राज्यों में मिली चुनाव हार का नतीजा है. उन्होंने इसे जुमलेबाजी करार दिया.

आजसू प्रवक्ता देवशरण भगत ने फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि उनकी पार्टी सामाजिक न्याय की हिमायती है. लेकिन आरक्षण की आड़ में राजनीति नहीं होनी चाहिए.



ये भी पढ़ें- VIDEO: गरीब सवर्णों को आरक्षण का फैसला ऐतिहासिक- रघुवर दास
सुर्खियां: झारखंड में स्कूलों के विलय पर फिलहाल रोक, रांची 94 स्मार्ट सिटी में तीसरे नंबर पर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज