यहां है 87 साल पुराना भगवान विश्वकर्मा का मंदिर

Ajay Lal | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: September 17, 2017, 9:34 AM IST
यहां है 87 साल पुराना भगवान विश्वकर्मा का मंदिर
विश्व का निर्माण करने वाले आराध्य देव भगवान विश्वकर्मा का आज रविवार को पूजन है.
Ajay Lal | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: September 17, 2017, 9:34 AM IST
विश्व का निर्माण करने वाले आराध्य देव भगवान विश्वकर्मा का आज रविवार को पूजन है. विश्वकर्मा पूजा पूरे देश में तमाम कारखानों, मंदिरों और घरों आदि पर किया जा रहा है. पर हम आपको बताते हैं झारखंड की राजधानी रांची के इकलौते 87 साल पुराने विश्वकर्मा मंदिर के बारे में. ये मंदिर आज पूरी तरह से सजाया संवारा गया है. यहां सुबह दस बजे से पूजा होगी.

ऐसी मान्यता है कि भगवान विश्वकर्मा का पूजन करने से लोगों को वाहन सुख, वाहन से जुड़े व्यापार, कल-कारखानों से जुड़े कारीगर और इंजीनियरों को सुख शांति की प्राप्ति होती है. विश्वकर्मा मंदिर के मुख्य पुजारी पंडित राजाराम शास्त्री ने कहा कि भगवान विश्वकर्मा की पूजा करने से सभी प्रकार के फल की प्राप्ति होती है.



पुजारी ने कहा कि भगवान विश्वकर्मा के आशीर्वाद से गाड़ी खरीदने के बाद भक्त अगले साल दोबारा गाड़ी खरीद कर यहां मंदिर आते हैं. उन्होंने कहा कि इस मंदिर का निर्माण एक संत ने 1930 में कराया. संत की मनोकामना थी कि विश्वकर्मा भगवान का मंदिर बनाया जाए. तब से ही यहां भगवान विश्वकर्मा की पूजा की जा रही है. उन्होंने कहा कि संत विश्वकर्मा की मंदिर बनाकर चले गए. फिर वह यहां नहीं आए, उनका दर्शन नहीं हुआ.

मंदिर के पुजारी ने आगे कहा कि आज विश्वकर्मा पूजन के दिन करीब दो हजार लोग यहां मंदिर में पूजा में आएंगे. पूजा सुबह 10 बजे से 1 बजे तक की जाएगी. फिर भंडारा का आयोजन किया जाएगा. इसमें 200 किलो दूध का महाप्रसाद और 500 किलो का बुंदिया का भोग लगाया जाएगाा.
First published: September 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर