Lok Sabha Election 2019: तपती धूप में दिग्गज पतियों के लिए पसीना बहा रहीं पत्नियां
Ranchi News in Hindi

Lok Sabha Election 2019: तपती धूप में दिग्गज पतियों के लिए पसीना बहा रहीं पत्नियां
पति संजय सेठ के लिए वोट मांगती नीता सेठ

सुबोधकांत सहाय की पत्नी रेखा सहाय कहती हैं कि पहले देश की जनता होने के नाते सुबोध जी को सपोर्ट कर रही हूं. फिर पत्नी होने का धर्म भी निभा रही हूं.

  • Share this:
झारखंड में लोकसभा चुनाव में उतरे दिग्गजों के लिए उनकी पत्नियां जमकर पसीना बहा रही हैं. प्रत्याशी जहां जनसम्पर्क और सभाओं के लिए सुबह घरों से निकलते हैं, वहीं पत्नियां उनके लिए खाने- पीने की व्यवस्था कर खुद भी प्रचार अभियान में निकल पड़ती हैं. इतना ही नहीं वे पति की जीत के लिए पूजा- पाठ, मंदिर, मस्जिद और गुरुद्वारे में मत्था टेकने से लेकर अन्य जतन भी कर रही हैं.

बात रांची सीट की करें, तो रांची की गलियों में कांग्रेस प्रत्याशी सुबोधकांत सहाय की पत्नी रेखा सहाय को वोट मांगते देखा जा सकता है. वह कभी रोड शो करती हैं, तो कभी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक. मौका देखकर गांव, गलियों में सभा भी करती नजर आती हैं. रेखा सहाय कहती हैं कि पहले देश की जनता होने के नाते सुबोध जी को सपोर्ट कर रही हूं. फिर पत्नी होने का धर्म भी निभा रही हूं. अपने पति की जीत का दावा करते हुए आगे कहती हैं कि सुबोध जी की जीत मोदी जी ने तय कर दी है.

पति के लिए वोट मांगने में भाजपा प्रत्याशी संजय सेठ की पत्नी नीता सेठ भी पीछे नहीं हैं. 35 सालों का साथ आज चुनावी संघर्ष के समय सड़कों पर मजबूती से दिख रहा है. नीता भी अहले उठकर पहले पति संजय सेठ को क्षेत्र में भेजती हैं, फिर खुद भी तैयार होकर गली, मोहल्लों में पति के लिए वोट मांगती हैं. नीता का कहना है कि संजय सेठ के सामाजिक कार्यों और मोदी सरकार के काम पर लोगों का वोट उनके पति के पाले में जाने वाला है.



इनके अलावा केन्द्रीय मंत्री जयंत सिन्हा, पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा, सांसद निशिकांत दुबे और बीडी राम की पत्नियां भी हजारीबाग, खूंटी, देवघर और पलामू में प्रचार के मोर्चे पर पतियों को जी जान से साथ दे रही हैं. पलामू में 29 अप्रैल को मतदान है. 23 मई को पता चलेगा कि अर्धांगिनियों के जोर पर किस- किस ने संसद की राह पकड़ी.
रिपोर्ट- मनोज कुमार

ये भी पढ़ें- कांग्रेस पर बरसे अमित शाह, बोले- पांच पीढ़ी से दे रही गरीबी हटाओ का नारा

शिबू सोरेन ने झारखंड की अस्मिता को बेचा: सीएम रघुवर दास

निशिकांत की रैली में सीएम भी हुए शरीक, नामांकन के बाद बोले- अब मुकाबला फुरकान के साथ

हेमलाल की नामांकन सभा में सीएम का हमला, संताल को बनाना है जेएमएम मुक्त

हेमंत सोरेन की तूफानी चुनावी सभा, महागठबंधन के उम्मीदवार सुखदेव भगत के लिए मांगा वोट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज