विधानसभा चुनाव के लिए 65 प्लस का लक्ष्य, क्या भेद पाएगी बीजेपी?

2014 के विधानसभा चुनाव में मोदी लहर के बावजूद बीजेपी 81 में से मात्र 37 सीटें ही जीत पायी थीं. जबकि आजसू के खाते में 5 सीटें गई थीं.

News18 Jharkhand
Updated: June 13, 2019, 2:16 PM IST
विधानसभा चुनाव के लिए 65 प्लस का लक्ष्य, क्या भेद पाएगी बीजेपी?
प्रदेश बीजेपी ऑफिस
News18 Jharkhand
Updated: June 13, 2019, 2:16 PM IST
लोकसभा चुनाव में जीत से उत्साहित बीजेपी ने झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए 65 प्लस का लक्ष्य निर्धारित किया है. इसको लेकर पार्टी सारे समीकरण पर मंथन कर रही है. दरअसल पार्टी को लगता है कि झारखंड विधानसभा चुनाव में वही वोटर होंगे, मोदी का चेहरा होगा, केंद्र और रघुवर सरकार का काम आधार होगा. हालांकि इस चुनाव में विधायकों को परफारमेंस भी मायने रखेंगे. इसलिए पार्टी नेतृत्व विधायकों के कामकाज की आंतरिक रिपोर्ट लेनी शुरू कर दी है.

भाजपा के केंद्रीय नेतृ्त्व के पास एजेंसी से फीडबैक मिल रहा है. इसके आधार पर लगभग एक दर्जन विधायकों का पत्ता साफ हो सकता है. भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं सरकार में मंत्री सीपी सिंह का कहना है कि 65 सीटों पर कभी न कभी हम जीते हैं. इसलिए यह लक्ष्य रखा गया है.



झारखंड के 14 साल के सफर में पहली बार रघुवर दास के नेतृत्व में सरकार अपना टर्म पूरा करने जा रही है. सीएम रघुवर दास का दावा है कि विकास ने लोगों को प्रभावित किया है. केंद्र और राज्य की डबल इंजन की सरकार ने जनता की जरूरतों को समझा है और पूरा करने की मंशा दिखाई है. इसलिए लोकसभा चुनाव में जनता ने प्रचंड जनादेश दिया.

2014 के विधानसभा चुनाव में मोदी लहर के बावजूद बीजेपी 81 में से मात्र 37 सीटें ही जीत पायी थीं. आजसू के खाते में 5 सीटें गई थीं. भाजपा नेताओं को लगता है कि इस बार ऐसा मैजिक होगा कि 80 प्रतिशत सीटें पार्टी जीत लेगी. सहयोगी दल अलग से जीतेंगे. सूबे में सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) को भाजपा के लक्ष्य पर हंसी आती है. पार्टी महासचिव सुप्रीयो भट्टाचार्य का कहना है कि विधानसभा चुनाव में मुकाबला जोरदार होगा.

झारखंड में विधानसभा चुनाव में ज्यादा समय नहीं है. भाजपा इसको लेकर पूरी तरह से सजग है. संथाल की लगभग डेढ़ दर्जन सीटों पर पार्टी की नजर है. सीएम अभी से संथाल पर ध्यान दे रहे हैं. लेकिन यह तय है कि विधानसभा चुनाव का माहौल लोकसभा चुनाव से अलग रहने वाला है.

रिपोर्ट- राजेश कुमार

ये भी पढ़ें- राज्य सरकार की पहल पर 38 सौ बेरोजगारों को मिली नौकरी
Loading...

विनय महतो हत्याकांड: हाईकोर्ट ने कहा- जांच में तेजी लाए पुुलिस..नहीं तो सीबीआई को दे सकते हैं केस
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...