Lockdown के कारण झारखंड में वर्ल्ड बैंक के सहयोग वाले 63 प्रोजेक्ट्स ठप
Ranchi News in Hindi

Lockdown के कारण झारखंड में वर्ल्ड बैंक के सहयोग वाले 63 प्रोजेक्ट्स ठप
वर्ल्ड बैंक ने पावर ग्रिड और ट्रांसमिशन लाइन से जुड़े प्रोजेक्ट्स के लिए झारखंड सरकार को 23 सौ करोड़ रुपये दिये हैं. (फाइल फोटो)

विश्व बैंक (World Bank) के सहयोग से अकेले राजधानी रांची के ट्रांसमिशन जोन-1 में 06 पावर ग्रिड, सिल्ली, इरबा, अनगरा, कोलेबिरा, कुरुडेग और चैनपुर में बनने हैं. इसके अलावा 10 ट्रांसमिशन लाइन का भी काम होना है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
रांची. कोरोना महामारी (Corona Pandemic) के कारण झारखंड में वर्ल्ड बैंक (World Bank) के सहयोग से चल रहे कई प्रोजेक्ट्स पर ब्रेक लग गये हैं. इनमें 25 पावर ग्रिड और 38 ट्रांसमिशन लाइन के निर्माणकार्य शामिल हैं. ये काम फिलहाल पूरी तरह ठप है. हालांकि समय पर काम पूरा करने के लिए झारखंड विद्युत वितरण निगम ने काम के लिए छूट देने का राज्य सरकार (Jharkhand Government) से आग्रह किया है.

प्रोजेक्ट्स के लिए वर्ल्ड बैंक ने दिये 2300 करोड़ रुपये 

इन प्रोजेक्ट्स के लिए झारखंड सरकार को वर्ल्ड बैंक की तरफ से 2300 करोड़ रुपये दिये गये हैं. अगले तीन साल में इन्हें पूरा करना है. हालांकि भूमि अधिग्रहण और अन्य कानूनी पचड़ों के कारण ये प्रोजेक्ट्स पहले से ही धीमा चल रहे हैं. हालत यह है कि अबतक मात्र 10 से 15 फीसदी काम ही हो पाए हैं.



रांची जोन-1 में निर्माणाधीन है 6 पावरग्रिड और 10 ट्रांसमिशन लाइन



विश्व बैंक के सहयोग से अकेले राजधानी रांची के ट्रांसमिशन जोन-1 में 06 पावर ग्रिड, सिल्ली, इरबा, अनगरा, कोलेबिरा, कुरुडेग और चैनपुर में बनने हैं. इसके अलावा 10 ट्रांसमिशन लाइन का भी काम होना है. इन पर 300 करोड़ रुपये खर्च होंगे. इधर कोरोना के चलते काम पूरी तरह ठप होने के कारण समय पर प्रोजेक्ट्स पूरा नहीं होने की चिंता अभी से झारखंड विद्युत वितरण निगम को सताने लगा है. निगम ने अन्य सरकारी विभागों एवं उद्योगों की तरह इन प्रोजेक्ट्स के काम को भी छूट के दायरे में लाने का आग्रह राज्य सरकार से किया है.

'समय पर काम पूरा नहीं हुआ तो होगा भारी नुकसान'

निगम के महाप्रबंधक पीके सिंह ने कहा कि कोरोना के कारण बिजली से जुड़े सारे प्रोजेक्ट्स बंद पड़े हैं. केवल आवश्यक कार्य को ही निपटाया जा रहा है. यदि समय से काम पूरे नहीं हुए, तो राज्य सरकार और निगम को भारी नुकसान उठाना पड़ेगा.

रिपोर्ट- भुवन किशोर झा

ये भी पढ़ें- कोरोना के साथ-साथ हम भूख और गरीबी से भी लड़ रहे हैं- हेमंत सोरेन
First published: April 22, 2020, 12:37 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading