गलवान के शहीद कुंदन ओझा के परिजनों से किये सरकारी वादे एक साल बाद भी अधूरे

शहीद कुंदन ओझा की पत्नी को एक साल बाद भी सरकारी नौकरी नहीं मिली है.

Galwan Anniversary: शहीद के पिता रविशंकर ओझा कहते हैं कि अंतिम संस्कार के वक्त राज्य सरकार और जिला प्रशासन ने शहीद कुंदन की पत्नी को सरकारी नौकरी, पेट्रोल पंप, घर बनाने व कृषि योग्य जमीन तथा 25 लाख रुपये देने की घोषणा की थी. अब तक केवल 10 लाख का चेक ही मिल पाया है.

  • Share this:
    रिपोर्ट- मिथिलेश कुमार सिंह

    साहेबगंज. पिछले साल 15 जून की देर रात लद्दाख स्थित गलवान घाटी (Galwan Valley) में चीनी सैनिकों के साथ खूनी झड़प में भारत के 20 सैनिक शहीद हो गये थे. इनमें से एक साहेबगंज के डिहारी गांव के कुंदन कुमार ओझा थे. वे बिहार रेजीमेंट के 16वीं बटालियन में तैनात थे. तब तिरंगे में लिपटा उनका पार्थिव शरीर पैत्रिक गांव डिहारी पहुंचा था. उस वक्त साहिबगंज शासन-प्रशासन के लोग भी शहीद के घर पहुंचे थे. इनलोगों ने भी उनके सम्मान में अपना सिर झुकाया था. इतना ही नहीं, उस वक्त केन्द्र और राज्य सरकार की ओर से परिजनों को आश्वासन भी दिये गये थे. केन्द्र से मिलने वाला सहयोग तो शहीद कुंदन के माता-पिता व पत्नी को मिलने लगा है. लेकिन, राज्य सरकार के आश्वासन के पूरा होने की राह कुंदन के परिजन आज भी देख रहे हैं.

    शहीद के पिता रविशंकर ओझा कहते हैं कि अंतिम संस्कार के वक्त राज्य सरकार और जिला प्रशासन ने शहीद कुंदन की पत्नी को सरकारी नौकरी, पेट्रोल पंप, घर बनाने व कृषि योग्य जमीन तथा 25 लाख रुपये देने की घोषणा की थी. अब तक केवल 10 लाख का चेक ही राज्य सरकार की ओर से मिल पाया है. राज्य सरकार द्वारा की गयी अन्य घोषणाएं आज भी सिर्फ आश्वासनों तक सिमटी हुई हैं. परिजन अब उपायुक्त कार्यालय की दौड़ लगा रहे हैं.

    देश की माटी के लिए शहीद होने वाले जांबाज के परिवार को जब इस कदर नजरअंदाज किया रहा हो तो इससे बड़ी विडंबना और क्या हो सकती है. इस संबंध में साहिबगंज उपायुक्त रामनिवास यादव ने बताया कि शहीदों का सम्मान हमेशा करना चाहिए. 16 जून को साहिबगंज के वीर शहीद सपूत कुंदन कुमार ओझा का जिला प्रशासन सम्मान करेगा. इसके लिए एक कार्यक्रम भी किया जाएगा. जहां तक शहीद कुंदन की पत्नी की नौकरी की बात है उससे संबंधित कागजात रांची भेजा गया है. कोविड के कारण बिलंब हो रहा है. इसके अलावा और भी घोषणाओं को जल्द ही पूरा किया जाएगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.