पर्यटकों को लुभाने के लिए संवारा जा रहा है मोती झरना, मिलेगी बेहतर सुविधाएं

वन विभाग की ओर से मोती झरना के सौन्दर्यीकरण के लिए कई योजनाएं शुरू हो चुकी है. पार्क, झूले, वाचटॉवर जैसे कई आकर्षणों को तैयार किया जा रहा है. डीएफओ मनीष तिवारी ने बताया कि मोती झरना के खत्म होते आकर्षण को वन विभाग फिर से लौटाएगा.

Nishant Kumar | News18 Jharkhand
Updated: December 8, 2018, 10:31 AM IST
पर्यटकों को लुभाने के लिए संवारा जा रहा है मोती झरना, मिलेगी बेहतर सुविधाएं
साहेबगंज का मोती झरना
Nishant Kumar | News18 Jharkhand
Updated: December 8, 2018, 10:31 AM IST
झारखंड के साहेबगंज में राज्य सरकार की पर्यटन स्थलों को आकर्षक बनाने की पहल अब दिखने लगी है. साहेबगंज का मोती झरना अब पर्यटकों को लुभाने के लिए तैयार है. वन विभाग के प्रयास से यहां पार्क और वाचटॉवर बनाया जा रहा है. पहाड़ों के बीच बसे मोतीनाथ बाबा मंदिर का भी अब कायाकल्प होगा.

मोती झरना और मोतीनाथ मंदिर को पर्यटन के लिहाज से आकर्षक बनाने के लिए वन विभाग द्वारा कई अहम प्रस्तावों पर काम किया जा रहा है. विभाग की ओर से मोती झरने की सफाई और सौन्दर्यीकरण के साथ कई उद्यानों में रंग-बिरंगे फूल लगाए गये हैं. बच्चों के लिए पार्क में झूले लगाने की भी तैयारी की जा रही है.

पहाड़ों के बीच बसे मोती झरने में सड़कों की मरम्मत और मंदिरों को भव्य बनाया जा रहा है. इसके साथ ही पर्यटकों की सुरक्षा के लिए भव्य विशाल द्वार भी लगाए जाएंगे. दूर-दराज से देशी-विदेशी पर्यटक मोती झरना में भ्रमण के लिए आते हैं. पर्यटकों का कहना है कि यहां व्यवस्थाएं बदलने से पर्यटकों को सुविधाएं मिलेगी और स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिलेगा.

वन विभाग की ओर से मोती झरना के सौन्दर्यीकरण के लिए कई योजनाएं शुरू हो चुकी है. पार्क, झूले, वाचटॉवर जैसे कई आकर्षणों को तैयार किया जा रहा है. डीएफओ मनीष तिवारी ने बताया कि मोती झरना के खत्म होते आकर्षण को वन विभाग फिर से लौटाएगा. इस तरफ एक बार फिर पर्यटकों का ध्यान आकर्षण करवाना है.

यह भी पढ़ें-  झारखंड में सिंगापुर की तरह पर्यटन विकास की संभावनाएं-सीएम

यह भी पढ़ें-  विश्व स्तर के पर्यटन स्थलों मे शुमार होगा पारसनाथ

यह भी पढ़ें-  राज्य सरकार के प्रयासों से बढ़ी तिलैया बांध पर पर्यटन गतिविधियां
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर